Home » राजनीति » UP CM Yogi Adityanath visited the 2008 gangrape victim and two times acid attack survivor at Lucknow's KGMU hospital
 

गैंगरेप और दो बार एसिड अटैक की शिकार महिला से मिले सीएम आदित्यनाथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 March 2017, 16:56 IST
(एएनआई)

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने साल 2008 में गैंगरेप और दो बार एसिड अटैक की शिकार महिला का हाल जाना.  पिछले आठ साल से कोर्ट में केस लड़ रही महिला का लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के अस्पताल में इलाज चल रहा है.

शुक्रवार को सीएम आदित्यनाथ ने केजीएमयू के गांधी वार्ड में भर्ती पीड़ित महिला से मुलाकात की. गैंगरेप की शिकार 35 साल की महिला का अस्पताल के गांधी वार्ड में इलाज चल रहा है. गुरुवार को लखनऊ जाती एक ट्रेन में दो पुरुषों ने उसे जबरदस्ती तेज़ाब पीने के लिए मजबूर कर दिया था. 

डॉक्टरों के मुताबिक तेजाब की वजह से महिला का गला जल गया है. डॉक्टरों की टीम इलाज में जुटी है. तेजाब पिलाए जाने की घटना गुरुवार शाम की है. गंगा गोमती एक्सप्रेस से महिला लखनऊ के चारबाग आ रही थी. जीआरपी स्टेशन में तेजाब से झुलसी महिला तड़पती हुई हालत में पहुंची. जिसके बाद उसे फौरन 108 एम्बुलेंस की मदद से ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया.

एक लाख का मुआवजा, मुफ्त इलाज

सीएम योगी आदित्यनाथ ने आईसीयू में भर्ती महिला के स्वास्थ्य के बारे में डॉक्टरों से जानकारी ली. साथ ही मुख्यमंत्री ने महिला को एक लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया. सीएम ने इस मामले में पुलिस को तेजी से कार्रवाई का निर्देश दिया. सीएम ने इस दौरान पीड़ित का मुफ्त इलाज करने के भी निर्देश दिए हैं.

आरोप है कि महिला के साथ 2008 में रायबरेली में गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया था. साथ ही उसके पेट पर तेज़ाब फेंका गया था. इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई थी. मामला अभी कोर्ट में लंबित है. वहीं पीड़ित महिला के परिजनों को धमकियां भी मिल रही हैं.

एएनआई

22 मार्च को दोबारा एसिड अटैक

आरोपियों ने 22 मार्च को एक बार फिर ट्रेन में महिला को जबरन तेजाब पिलाया. पीड़ित महिला अपने बच्चों से मिलने के लिए लखनऊ से करीब 100 किलोमीटर दूर ऊंचाहार गई थी. 

पीड़ित के पति का कहना है, "अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री खुद आए, लेकिन मैं चाहता हूं कि हमलावरों को गिरफ्तार किया जाए." 

एडीजी: दो आरोपी गिरफ्तार

पीड़ित महिला एक ऐसे कैफे में काम करती है, जो एसिड अटैक की शिकार महिलाओं को काम पर रखता है. महिला के पति का कहना है, "मैं बहुत गरीब आदमी हूं, लेकिन मैं यह केस इसलिए लड़ता रहा, क्योंकि मुझे अपनी पत्नी पर विश्वास है." 

यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी का कहना है, "एफआईआर दर्ज की गई है. दो आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है. बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस पूरी कोशिश कर रही है. पीड़ित को उपयुक्त सुरक्षा मुहैया कराई गई है."

First published: 24 March 2017, 16:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी