Home » राजनीति » Venkaiah Naidu says, Rajya Sabha MPs can now speak in 22 Indian languages in House
 

अब राज्यसभा में इन भाषाओं में भाषण दे सकेंगे सांसदः वेंकैया नायडु

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 July 2018, 14:09 IST
(File photo )

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू ने बुधवार को मानसून सत्र की शुरुआत करते हुए कहा कि अब राज्यसभा सांसद संविधान की आठवीं सूची में शामिल 22 भारतीय भाषाओं में से किसी में भी भाषण दे सकते हैं. राज्यसभा सचिवालय ने पांच अन्य भाषाओं डोगरी, कश्मीरी, कोंकणी, संथाली और सिंधी के लिए एक साथ अनुवाद की व्यवस्था की है. राज्यसभा सदस्यों के पास मानसून सत्र में 22 भाषाओं में अपनी बात रखने की सुविधा है.

बता दें कि इससे पहले राज्यसभा में 17 भाषाओं में अनुवादक की व्यवस्था थी. जिसमें असम, बंगाली, गुजराती, हिंदी, कन्नड़, मलयालम, मराठी, उड़िया, पंजाबी, तमिल, तेलगु और उर्दू भाषा शामिल थी. अब इसमें पांच भाषाओं को और जोड़ दिया गया है. इन भाषाओं में भाषण देने से पहले राज्यसभा सचिवालय को नोटिस देना होगा.

राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडु ने कहा कि शुरुआत में कुछ परेशानी हो सकती है. ट्रांसलेटर को स्पीकर की गति से जोड़ने में दिक्कत हो सकती है. उन्होंने कहा कि सभी मेंबर इसको लेकर अपनी राय देने के लिए फ्री हैं. ये बहुत बढ़िया कदम है. सुब्रमण्यम स्वामी ने शब्दावली में संस्कृति के शब्दों को जोड़ने की मांग की है.

एक दिन पहले नायडू ने कहा था कि मैं हमेशा महसूस करता हूं कि मातृभाषा बिना किसी अवरोध के हमारे अनुभवों और विचारों को व्यक्त करने का स्वाभाविक माध्यम होती है. संसद में बहुभाषी व्यवस्था के तहत, सदस्यों को भाषा के चलते किसी दूसरे से खुद को कम नहीं आंकना चाहिए. इसलिए मैं 22 भाषाओं में अनुवाद सुविधा मुहैया कराना चाहता था. मैं खुश हूं कि आगामी मानसून सत्र में यह वास्तविकता बनेगा.

ये भी पढ़ें-  लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव मंजूर

First published: 18 July 2018, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी