Home » राजनीति » Cho Ramaswamy introduced Modi as Merchant of Death during Tughlak's annual readers programme
 

जब भरी सभा में चो ने मोदी को कहा 'मौत का सौदागर', फिर क्यों हंसे मोदी?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(फाइल फोटो)

2007 के गुजरात विधानसभा चुनाव में मौत का सौदागर जुमला काफी चर्चित रहा था. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक चुनावी सभा में मोदी पर निशाना साधते हुए यह बयान दिया था. सियासी जानकार मानते हैं कि मोदी ने इस जुमले को जमकर भुनाया और बड़ी जीत हासिल की.

वरिष्ठ पत्रकार चो रामास्वामी का बुधवार को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में निधन हो गया. जयललिता के साथ ही कई राजनेताओं के साथ उनकी करीबी रही थी. उनका एक संबोधन काफी मशहूर है, जिसमें उन्होंने वर्तमान पीएम और गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी को मौत का सौदागर कहा था. 

यह घटना जनवरी 2008 की है, जब चेन्नई में चो की पत्रिका तुगलक के सालाना पाठक सम्मेलन में मोदी शामिल हुए थे. लेकिन यहां मौत का सौदागर कहे जाने पर मोदी नाराज़ होने के बजाए खुश हो रहे थे.

दिसंबर 2007 में गुजरात विधानसभा चुनाव खत्म होने के ठीक एक महीने बाद यह कार्यक्रम हुआ था. हालांकि चो ने मौत के सौदागर का जिक्र, भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी के रवैए को लेकर किया था. पीएम मोदी ने अपने ट्विटर पेज पर इस दिलचस्प संबोधन का लिंक पोस्ट किया है.

सोनिया ने चुनावी रैली में दिया था बयान

2007 के विधानसभा चुनाव में पीएम मोदी ने मौत के सौदागर को भुनाते हुए कांग्रेस के खिलाफ इस्तेमाल किया था. सोनिया की टिप्पणी को गुजरात के स्वाभिमान से मोदी ने तब जोड़ दिया था. 

चो रामास्वामी के साथ मोदी के उस कार्यक्रम को अब नौ साल बीत चुके हैं. तुगलक के संस्थापक संपादक और वरिष्ठ पत्रकार चो रामास्वामी की बुधवार को मौत के बाद पीएम मोदी ने यह वीडियो पोस्ट किया है.चो से तमिलनाडु की दिवंगत पूर्व सीएम जयललिता भी अक्सर सलाह लेती थीं.

मोदी ने दी श्रद्धांजलि

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, "चो रामास्वामी एक बहुआयामी व्यक्तित्व, प्रकांड विद्वान, महान राष्ट्रवादी और निडर आवाज़ वाली शख्सियत थे, जिनका लोग सम्मान करने के साथ ही उनसे प्रेरणा भी लेते थे." 

पीएम मोदी ने लिखा, "इन सबसे ऊपर चो रामास्वामी मेरे एक प्रिय मित्र थे. मैं उनके सालाना रीडर्स मीटिंग में जाता था. जो कि संपादक और पाठक के बीच संबंधों का अभूतपूर्व आयोजन होता था." 

उनकी तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने लिखा, "चो रामास्वामी पैनी नजर वाले, स्पष्टवादी और बुद्धिमान शख्सियत थे. उनके निधन पर गहरा दुख है. उनके परिवार और तुगलक के पाठकों के प्रति मेरी संवेदना."

First published: 7 December 2016, 12:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी