Home » राजस्थान » Anandpal Encounter: Rajasthan boils since 19 days as Rajput anger evident on roads of Rajputana
 

आनंदपाल एनकाउंटर: 19 दिन बाद भी रोड पर 'राजपूताना' के राजपूत

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2017, 12:22 IST
राजस्थान पत्रिका

24 जून की देर रात कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल को राजस्थान पुलिस ने चूरू के मालासर में मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था. ज़िंदा रहते गैंगस्टर ने पुलिस की नाक में दम किया हुआ था, वहीं अब एनकाउंटर के 19 दिन बाद भी गैंगस्टर की मौत राजस्थान पुलिस के लिए गले की हड्डी बनी हुई है. उसके शव का अब तक अंतिम संस्कार नहीं हो सका है.

इस एनकाउंटर को लेकर राजपूताना यानी राजस्थान की राजपूत राजनीति गरमाई हुई है. राजपूत समाज सड़कों पर है. नेताओं के बयानों का सिलसिला जारी है. बुधवार को आनंदपाल सिंह के लिए आयोजित श्रद्धांजलि सभा के बाद राजपूत समाज के लोगों ने हिंसक प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की एक गाड़ी फूंक दी और एक रेलवे ट्रैक भी उखाड़ दिया.

नागौर के एसपी जख्मी, प्रदर्शनकारी की मौत

बताया जा रहा है कि पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष में 20 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. गैंगस्टर आनंदपाल सिंह को श्रद्धांजलि देने के लिए नागौर जिले की लाडनूं तहसील के सांवरदा गांव में राजपूत समाज के हजारों लोग जुटे थे.

खुफिया रिपोर्ट में मंगलवार रात तक 15 से 20 हजार लोगों के सांवराद की सभा में पहुंचने की खबर थी. इसके बावजूद मौके पर 50 हजार से भी ज्‍यादा लोग इकट्ठा हो गए, जिसके बाद हालात पुलिस के हाथ से निकल गए. खुफिया रिपोर्ट के आधार पर पुलिस के 2500 जवान तैनात किए गए थे. जिले में 32 जगहों पर चेक पोस्ट भी लगाया गया था. 

पढ़ें: 10 दिनों से कफ़न को मोहताज 11 साल तक दहशत फैलाने वाला आनंदपाल

एनकाउंटर की सीबीआई जांच समेत चार मांगों को लेकर श्रद्धांजलि सभा हिंसक प्रदर्शन में तब्दील हो गई. झड़प के दौरान नागौर के एसपी पारिस देशमुख भी जख्मी हो गए. दो अन्य पुलिसकर्मी लापता बताए जा रहे हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक एसपी की गाड़ी को भी फूंक दिया गया. वहीं एक प्रदर्शनकारी के मारे जाने की खबर है. सोशल मीडिया से भड़काऊ संदेशों को रोकने के लिए फिलहाल नागौर, बीकानेर और चूरू में इंटरनेट सेवा पर बैन लगाया गया है.

सौजन्य: राजस्थान पत्रिका

श्रीकरणी राजपूत सेना की रैली

गुस्साए लोगों ने सांवराद रेलवे स्टेशन पर रेलवे ट्रैक उखाड़ने के साथ ही बुकिंग काउंटर पर भी तोड़फोड़ की. दो पुलिस गार्डों के हथियार भी छीन लिए गए.

राज्य के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) एन आर के रेड्डी का कहना है, "श्रीकरणी राजपूत सेना द्वारा आयोजित रैली में आए लोगों पर उस समय लाठीचार्ज करना पड़ा, जब गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया. हालात को काबू करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़कर भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश की गई, लेकिन भीड़ हिंसा पर उतारू हो गई, जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा."

सौजन्य: राजस्थान पत्रिका

सांवराद गांव में कर्फ्यू

पुलिस सूत्रों के मुताबिक गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के पैतृक गांव में श्रीराजपूत करणी सेना की ओर से आयोजित की गई हुंकार रैली और श्रद्धाजंलि सभा में जुटे लोगों ने दिल्ली-जोधपुर रेल मार्ग को जाम कर उसे नुकसान पहुंचाना शुरू कर दिया. रेल मार्ग क्षतिग्रस्त होने के बाद दिल्ली-जोधपुर वाया रेवाड़ी मार्ग पर रेल यातायात बाधित हुआ है.


इस बीच सांवराद में आनंदपाल की श्रद्धांजलि सभा के दौरान हिंसा के बाद अजमेर पुलिस को अलर्ट किया गया है. डीजीपी मनोज भट्ट के निर्देशों के बाद अजमेर पुलिस अलर्ट हो गई है. अजमेर के एसपी राजेन्द्र सिंह ने राजस्थान पत्रिका को बताया कि बुधवार को जिले में शांति रही. सांवराद गांव में कर्फ्यू लगाया गया है.

First published: 13 July 2017, 11:31 IST
 
अगली कहानी