Home » राजस्थान » Asaram rape case: Jodhpur Police to impose Section 144 ahead of verdict
 

आसाराम के खिलाफ 25 अप्रैल को आएगा फैसला, जोधपुर कोर्ट किले में तब्दील

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 April 2018, 16:02 IST

यौन उत्पीड़न मामले में जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद आसाराम के 25 अप्रैल को आने वाले फैसले को देखते हुए जोधपुर कमिश्नरेट इलाके में शनिवार को धारा 144 लागू कर दी गई. दरअसल, कोर्ट का फैसला सुनाए जाने वाले दिन बड़ी संख्या में समर्थकों के जोधपुर पहुंचने की संभावना को देखते हुए पुलिस प्रशासन कड़े कदम उठा रहा है.

इसके लिए शनिवार से ही जोधपुर शहर की सीमा सील कर जगह-जगह नाकेबंदी कर दी गई है. रिपोर्ट के मुताबिक, 21 अप्रैल को सुबह 10 बजे से 30 अप्रैल को शाम पांच बजे तक जोधपुर कमिश्नरेट इलाके में धारा 144 लागू रहेगी. इस दौरान सार्वजनिक स्थान पर पांच या ज्यादा लोग एक साथ इकट्ठे नहीं हो सकेंगे और न ही हथियार लेकर चल सकेंगे.

शुक्रवार को डीसीपी अमनदीप सिंह और और डीसीपी वेस्ट समीर कुमार सिंह ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि फैसले के दिन सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहेंगे. संदिग्धों पर कड़ी नजर रहेगी. उन्होंने बताया कि अगर कोई आसाराम समर्थक जोधपुर आता है तो पुलिस उससे पूछताछ करेगी. सुरक्षा व्यवस्था में कोई कोताही नहीं बरती जाएगी.

गौरतलब है कि आसाराम के मामले में फैसले के लिए 25 अप्रैल की तारीख तय है. पुलिस को खुफिया रिपोर्ट मिली थी कि सजा सुनाए जाने के दौरान बड़ी संख्या में आसाराम के समर्थक जोधपुर पहुंच सकते हैं. इस पर पुलिस ने हाईकोर्ट में अर्जी पेश कर आसाराम का फैसला जेल से ही सुनवाए जाने की दरखास्त लगाई थी.

पढ़ें- बड़ा सवाल: क्या POCSO एक्ट में बदलाव से रुक जाएंगी रेप की बढ़ती घटनाएं

इस पर मंगलवार को हाईकोर्ट जस्टिस गोपालकृष्ण व्यास व जस्टिस रामचंद्र सिंह झाला की खंडपीठ ने आसाराम को जेल में ही फैसला सुनाने का आदेश दिया था. इसके बावजूद पुलिस प्रशासन को कोई रिस्क नहीं लेना चाहता. लिहाजा सुरक्षा व्यवस्था के प्रबंध कड़े किए जा रहे हैं. मामले पर एससी-एसटी कोर्ट पीठासीन अधिकारी मधुसूदन शर्मा सेशन कोर्ट जज जेल में ही फैसला सुनाएंगे.

First published: 21 April 2018, 16:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी