Home » राजस्थान » Espionage Racket: Exclusive information about suspect Shoaib and his BJP connection
 

पाक के 'खबरी' भारत के रक्षा मंत्री एक तस्वीर में, जानिए जासूसी रैकेट के सनसनीखेज राज

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 29 October 2016, 15:42 IST
(पत्रिका)

देश की राजधानी में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़े जासूसी रैकेट का पर्दाफाश करने का दावा किया है. बताया जा रहा है कि यह रैकेट पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को सरहद से संबंधित संवेदनशील जानकारी मुहैया करा रहा था.

जोधपुर में पकड़ा गया शोएब इसी रैकेट की अहम कड़ी माना जा रहा है. पाकिस्तानी हाई कमीशन के अफसर महमूद अख्तर के साथ उसके सीधे तार जुड़ रहे हैं. वहीं पड़ताल में यह भी पता चला है कि उसके कुछ बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं से संपर्क रहे हैं.  

राजस्थान पत्रिका ने शोएब के बारे में पड़ताल की, तो कुछ चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. दरअसल शोएब पाकिस्तान से भारत और भारत से पाकिस्तान आने वाले लोगों को वीजा दिलाने के लिए भाजपा कार्यकर्ता की आड़ में लोगों को गुमराह करता था.

पत्रिका

सांसद के पास 8 पासपोर्ट लेकर आया

पत्रिका की पड़ताल में यह भी पता चला है कि शोएब ने कुछ कांग्रेस सांसदों से अपने पक्ष में पत्र लिखवाए. कहने के लिए तो शोएब कलेक्ट्रेट परिसर में बैठकर पासपोर्ट बनाने का काम करता था, लेकिन उसने पासपोर्ट को सत्यापित करवाने के लिए कांग्रेस और भाजपा के कई बड़े नेताओं से भी मदद ली थी.

पत्रिका ने जोधपुर से भाजपा सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत से शोएब के सिलसिले मेें बात की. सांसद गजेंद्र शेखावत ने बताया कि जब अखबार में उन्होंने शोएब की तस्वीर देखी, तो उन्हें याद आया कि यह शख्स एक बार उनके पास दिल्ली में भी आया था.

भाजपा सांसद ने कहा कि उन्हें यह भी पता चला कि पाकिस्तान से थार एक्सप्रेस से भारत आने वाले लोगों के 8 पासपोर्ट लेकर वह आया था और उनका वीजा दिलवाने के लिए उनके दस्तखत मांग रहा था.

सांसद ने पत्रिका को बताया कि वह शोएब को जानते नहीं थे, लिहाजा उन्होंने मना कर दिया. इसके बावजूद वह एक घंटे तक उनके दिल्ली स्थित आवास पर बैठा रहा.

जब सांसद से उसकी दोबारा मुलाकात हुई तो उसने कहा कि वह जोधपुर से आया है. इसके बाद भाजपा सांसद ने बाड़मेर का मामला होने का हवाला देते हुए वहां के सांसद से ही दस्तखत करवाने को कहा.

पत्रिका

'भाजपा से कोई नाता नहीं'

पत्रिका ने भाजपा से उसके कथित संबंधों को लेकर पड़ताल में जोधपुर के भाजपा जिलाध्यक्ष देवेंद्र जोशी से पूछा कि संदिग्ध जासूस शोएब क्या कभी भाजपा कार्यकर्ता रहा है. जोशी ने बताया कि उसने शहर के कई नेताओं के साथ फोटो खिंचवाए हैं तो उन्होंने इस बात को सिरे से नकार दिया.

देवेंद्र जोशी का कहना था कि वे शोएब को जानते तक नहीं हैं. पिछले दो साल से उन्होंने शोएब को किसी भी कार्यक्रम में नहीं देखा. उन्होंने पत्रिका को बताया कि भाजपा के सभी सक्रिय सदस्यों के रिकॉर्ड की जांच के बाद सामने आया है कि शोएब भाजपा का सक्रिय कार्यकर्ता भी नहीं है.

शोएब की रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के साथ एक फोटो भी सोेशल मीडिया पर काफी चर्चित हो रही है. जोधपुर में भाजपा के दिग्गज नेताओं के साथ भी शोएब की तस्वीरें हैं. इसके अलावा केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन, भाजपा शहर जिलाध्यक्ष देवेंद्र जोशी और सूरसागर विधायक सूर्यकांता व्यास के साथ भी उसकी फोटो है.

जोधपुर सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत एक फोटो में शोएब को मिठाई खिला रहे हैं. इसके साथ ही भाजपा के कई कार्यक्रमों में शोएब बाकायदा कार्यक्रम का संचालन भी कर रहा है.

पत्रिका

पाकिस्तान की मां, 6 बार सरहद पार गया

पत्रिका को सूत्रों से जानकारी मिली है कि जोधपुर में खाण्डा फलसा थानान्तर्गत कुम्हारिया कुआं के पास जटियों का बास निवासी शोएब हुसैन पुत्र मोहम्मद हुसैन को पुलिस ने गुरुवार शाम मेड़ता रोड रेलवे स्टेशन पर दिल्ली सराय रोहिल्ला ट्रेन से पकड़ा था.

दिल्ली ले जाने के बाद शुक्रवार को उसे गिरफ्तार किया गया. पूछताछ में सामने आया कि उसकी मां पाकिस्तान मूल की है. एेसे में वह ननिहाल जाने के बहाने छह बार पाकिस्तान की यात्रा कर चुका है.

पाक उच्चायोग के वीजा सेक्शन में अधिकारी महमूद अख्तर से वह वीजा बनवाने के लिए तीन-चार साल पहले पहली बार मिला था. उसके बाद से वह लगातार उसके सम्पर्क में रहने लगा.

पत्रिका

हर महीने बाइक बदलता था शोएब

पुलिस ने मेड़ता रोड रेलवे स्टेशन पर उसे पकड़ा था, उस समय आरोपी के पास एक फेबलेट तथा कुछ अन्य दस्तावेज भी थे. पुलिस की पकड़ में आते ही उसने फेबलेट तोडऩे की कोशिश की थी, लेकिन पुलिस ने उसे जब्त कर लिया था. 

जटियों का बास इलाके के लोगों का कहना है कि शोएब को तरह-तरह की मोटरसाइकिलें चलाने का बेहद शौक है. वह महीने में दो-तीन बाइक बदल लेता था. एेसे में आस-पड़ोस के लोगों को भी उसकी आमदनी पर शक होने लगा था. 

शोएब कोर्ट परिसर में सीआईडी ऑफिस के पास टेबल-कुर्सी लगाकर पासपोर्ट के साथ ही वीजा बनवाने का काम करता था. जिसके लिए शाम होते ही घर के बाहर कतार लगनी शुरू हो जाती थी. पासपोर्ट और वीजा बनवाने के लिए जोधपुर ही नहीं, बल्कि दूर-दराज से भी लोग शोएब के पास पहुंचते थे.

घर में लगवाए थे सीसीटीवी कैमरे

जोधपुर के खाण्डा फलसा थाने के एसआई पुखाराम का कहना है, "कुछ महीने पहले शोएब ने अपने मकान की तीसरी मंजिल पर बाहर की तरफ सीसीटीवी कैमरे लगाए थे. ऊपर लगे कैमरे का फोकस पास स्थित मोहम्मद हुसैन के मकान पर था. जिसको लेकर दोनों पक्षों में कई बार झगड़े भी हुए थे."

14 जनवरी को मोहम्मद हुसैन ने एक एफआईआर दर्ज कराई थी. जांच में दोषी पाए जाने पर एएसआई पुखाराम ने मोहम्मद सोहिल हुसैन, शोएब, जावेद और मां जीनत बानो के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश किया था.

जासूसी रैकेट में उसका नाम सामने आने के बाद खाण्डा फलसा थाना पुलिस शुक्रवार को उसके घर पहुंची और परिजनों से बातचीत की. जाहिर है शोएब के बारे में अभी बहुत से राज खुलने बाकी हैं. दिल्ली पुलिस की तफ्तीश में कई और चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं.

First published: 29 October 2016, 15:42 IST
 
अगली कहानी