Home » राजस्थान » girl child fired was hot iron rod for treatment of cold in bhilwara rajasthan
 

कब सुधरेंगे हम: राजस्थान में सर्दी जुकाम के इलाज के लिए मासूम को लोहे की गर्म रॉड से दागा

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 March 2018, 10:47 IST
(File photo)

मेडिकल साइंस ने भले ही कितनी भी तरक्की कर ली हो, लेकिन हमारे देश में आज भी इलाज के लिए अंधविश्वास का सहारा लिया जाता है. ऐसा ही एक मामला राजस्थान के भीलवाड़ा से सामने आया है. जहां एक मासूम बच्ची को सर्दी जुकाम के इलाज के लिए लोहे की गर्म छड़ से दाग दिया गया. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है. वहीं बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है

ये मामला राजस्थान के भीलवाडा जिले के कारोई थाना क्षेत्र का है. जहां एक चार महीने की मासूम को सर्दी जुकाम से पीडित होने पर लोहे की गर्म छड़ से दाग दिया गया. मासूम के लोहे की गर्म छड़ से दागने की शिकायत बाल कल्याण समिति की ओर से दर्ज कराई गई है. पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है. पुलिस के मुताबिक पीड़ित बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

थानाधिकारी सुनील चौधरी के मुताबिक रामाखेडा गांव की चार माह की मासूम नंदिनी को तबियत बिगड़ने पर भीलवाडा के महात्मा गांधी अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती कराया गया. उन्होंने बताया कि मामला प्रकाश में तब आया जब चिकित्सकों ने मासूम को गर्म लोहे की छड़ से दागने के बारे में बताया.

सुनील चौधरी के मुताबिक मासूम को दो दिन पूर्व लोहे की गर्म छड़ से दागा गया था. उन्होंने बताया कि बाल कल्याण समिति की ओर से दर्ज शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच की जा रही है. अस्पताल के एक चिकित्सक के मुताबिक बच्ची के पेट पर गर्म लोहे की छड़ से दागा गया है.

महात्मा गांधी अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डॉ. ओपी आगल के मुताबिक मासूम बच्ची निमोनिया और दिल की बीमारी से पीड़ित है. उन्होंने बताया कि भीलवाडा में अंधविश्वास की यह पहली घटना नहीं है. इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं और कई मासूमों की जान जा चुकी है.

ये भी पढ़ें- क्यों दार्जिलिंग की चाय के लिए तरसने लगे हैं दुनियाभर के बाजार?

First published: 20 March 2018, 10:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी