Home » राजस्थान » Locust Attack: Tiddi Dal destroy crops in Ajmer Rajasthan
 

पाकिस्तान की ओर से राजस्थान में आए किसानों के दुश्मन टिड्डे, बर्बाद कर दी सैकड़ों बीघा फसल

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 May 2020, 10:12 IST

Locust Attack: राजस्थान (Rajasthan) में पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से किसानों (Farmers) के दुश्मन टिड्डियों (Locust) ने हमला  कर दिया है. जिससे किसानों को भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि टिड्डियों के कई दल पाकिस्तान से लगी राजस्थान की सीमा (Rajasthan Border) में घुस आए हैं. जिन्होंने अजमेर (Ajmer) और आसपार के इलाकों की फसल (Crops) बर्बाद कर दी है. जिससे किसान काफी परेशान हैं. हालांकि प्रशासन किसानों की इन परेशानिकों को दूसर करने के लिए तमाम कोशिशें कर रहा है जिससे फसलों को बर्बाद होने से बचाया जा सके. जानकारी के मुताबिक, टिड्डियों के दल ने अजमेर में करीब पांच फीसदी फसल बर्बाद कर दी है.

राजस्थान कृषि विभाग के उप निदेशक वीके शर्मा (VK Sharma) का कहना है कि, अजमेर जिले में टिड्डियों के दल ने धावा बोल दिया है. टिड्डियों के दल ने नागौर (Nagaur) से जिले में प्रवेश किया है. हमने कीटनाशक (Pesticides) का छिड़काव करने के लिए अग्निशमन विभाग की मदद ली. वीके शर्मा ने दावा किया कि इस संकट से प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में सक्षम है. उनका कहना है कि टिड्डियों ने अब तक फसलों को 3 से 5 फीसदी नुकसान पहुंचाया है.


Solar Eclipse 2020: इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल और ग्रहण का समय

बता दें कि इससे पहले टिड्डियों ने पाकिस्तान में भी भारी तबाही मचाई थी. उसके बाद पिछले साल टिड्डियों के दल ने राजस्थान और गुजरात में फसलों पर हमला कर दिया था. उसके बाद सैकड़ों बीघा फसल बर्बाद हो गई. बता दें कि टिड्डियों का झुंड राजस्थान में आने वाली हवा या रेगिस्तानी तूफान की मदद से भारत में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ करते है. हर साल पाकिस्तान से भारत में टिड्डियों की घुसपैठ का कोई ना कोई मामला सामने आता रहता है. हजारों-लाखों टिड्डियों का झुंड घुसपैठ करके देश की सीमावर्ती क्षेत्रो में किसानों की फसलों को बर्बाद कर देता है.

पृथ्वी पर एलियन के आने और दूसरे ग्रहों पर जीवन की क्या है सच्चाई? पेंटागन ने जारी किए वीडियो

जानकारों का कहना है कि टिड्डी दल लाखों-करोड़ों की संख्या में आते हैं और एक ही रात में सब फसल को चट कर जाते है. उनका कहना है कि एक वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करने वाला टिड्डियों का झुंड एक दिन में 35,000 लोगों का भोजन खा सकता है. बता दें कि टिड्डियों का पनपना पूरी तरह से प्राकृति से जुड़ा हुआ है और इनकी संख्या, प्रकोप का क्षेत्र, मौसम और पर्यावरण पर निर्भर करता है.

सूरज की रोशनी में आई पांच गुना कमी, नौ हजार साल से जारी है ये सिलसिला, वैज्ञानिक हैरान

First published: 13 May 2020, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी