Home » राजस्थान » pm modi launches national nutrition mission in jhunjhunu rajasthan on occasion of international women’s day
 

पीएम मोदी ने देश को दिया नया मंत्र, कहा- पीएम का मतलब पोषण मिशन

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2018, 16:17 IST

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान के झुंझनू थे. जहां उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया. बता दें कि ये रैली बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की थीम पर आयोजित थी. इस जनसभा में पीएम मोदी के साथ राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के साथ बीजेपी के कई नेता मौजूद थे.

पीएम मोदी ने इससे पहले गुरुवार सुबह ट्विटर पर देशवासियों को महिला दिवस की बधाई दी. साथ ही एक वीडियो भी शेयर किया. झुंझनू में पीएम मोदी छोटी बच्चियों के बात करते हुए दिखे. वहीं महिलाओं से भी रूबरू हुए. जनसभा के दौरान पीएम मोदी ने राष्ट्रीय पोषण मिशन का शुभारंभ किया. वहीं राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पीएम मोदी को एक किताब भेंट की. प्रधानमंत्री ने इस दौरान महिलाओं के क्षेत्र में अच्छा काम करने वाले जिलों को सम्मानित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया 100 साल से अधिक समय से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रही है. आज पूरा देश झुंझनू के साथ जुड़ा है. पीएम मोदी ने कहा कि मैं सोच-विचार कर झुंझनू आया हूं. झुंझनू जिले ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अभियान को शानदार तरीके से आगे बढ़ाया है. इसलिए मैं अपने आप को यहां आने से रोक नहीं पाया.

मोदी ने पीएम का मतलब बताया पोषण मिशन

जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मेरे विरोधी जितना भी मुझे भला-बुरा कहें उनकी मर्जी है. बस ऐसा करें कि अगर पीएम बोले तो उसका मतलब नरेंद्र मोदी (प्रधानमंत्री) नहीं पोषण मिशन होना चाहिए. इससे इस मिशन को बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी. हमें कुपोषण के खिलाफ जंग लड़नी होगी.

लिंगानुपात पर पीएम ने जताई चिंता

पीएम मोदी ने आगे कहा कि झुंझनू झुकना नहीं जानता मुश्किलों से जूझना जानता है. उन्होंने कहा कि हमारे देश में नारी को पूजा जाता है लेकिन ऐसा क्या हुआ कि बेटी को बचाने के लिए हाथ पैर जोड़ने पड़ रहे हैं. और सरकारों को बजट निकालना पड़ रहा है. पीएम ने कहा कि आज जब बालक और बालिकाओं के जन्म दर में अंतर दिखता है तो काफी दुख होता है.

उन्होंने कहा कि अब लोगों को तय करना होगा कि जितने बेटे पैदा होंगे, उतनी ही बेटियां पैदा होंगी. जितना बेटा पढ़ेगा तो उतनी ही बेटी भी पढ़ेगी. इसकी शुरुआत हमें आज से ही करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर घर में सास कह दे कि हमें बेटी चाहिए तो किसी की हिम्मत नहीं है कि बेटी को पैदा होने से रोक दे. बेटियों के जन्म के लिए जागरुकता फैलानी होगी.

पीएम मोदी ने हरियाणा का दिया उदाहण

पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार के आने के बाद हमने हरियाणा से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को लॉन्च किया. जिसके बाद वहां पर बेटियों के जन्म के अनुपात में काफी सुधार हुआ है. आज देश में बेटियां नाम रोशन कर रही हैं. जो लोग मानते हैं कि बेटा है बुढ़ापे में काम आएगा तो ये गलत है. मैंने कई बार देखा है कि बेटे आराम की जिंदगी जीते हो लेकिन मां-बाप वृद्धाश्रम में रहते हो.

First published: 8 March 2018, 16:11 IST
 
अगली कहानी