Home » राजस्थान » Rajasthan 4 Girls Cremate Their Father Faces Ire Of Panchayat in Bundi
 

राजस्थान: बेटियों ने पिता की चिता को दी मुखाग्नि तो पंचायत के कलेजे पर लोटा सांप और सुनाया...

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 July 2018, 17:17 IST

राजस्थान के बूंदी जिले की चार बेटियों ने मिसाल कायम करते हुए पंचायत का तुगलती फरमान मानने से इंकार कर दिया. उसके बाद इन बेटियों ने अपने पिता की अर्थी को कंधा दिया और उन्हें मुखाग्नि दी. बेटियों का ये साहसिक काम उनकी पंचायत को पसंद नहीं आया और उन्हें तुगलकी फरमान सुुना दिया.

पंचायत ने इन बेटियों को समाज से बहिष्कृत करने का फैसला सुनाया है. बता दें कि इससे पहले पंचायत ने लड़कियों से अपने पिता के अंतिम संस्कार में हिस्सा न लेने का फरमान सुनाया था. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक मामला बूंदी जिले का है. जहां शनिवार रात दुर्गाशंकर टेलर का लंबी बीमारी के चलते निधन हो गया. दुर्गाशंकर का कोई पुत्र नहीं है ऐसे में उनकी चिता को मुखाग्नि देने वाला कोई नहीं था. दुर्गाशंकर की इच्छा थी कि मरने के बाद उनका अंतिम संस्कार उनकी चार बेटियां ही करें.

पंचायत को ये बात नागवार गुजरी कि दुर्गाशंकर की चिता को उनकी बेटियां मुखाग्नि देंगी. लेकिन उनकी चारों बेटियों ने इस बात की कोई परवाह नहीं की और अपने पिता की अंतिम इच्छा पूरी करने के लिए पंचायत का फरमान मानने से इंकार कर दिया. पंचायत ने चारों लड़कियों एवं उनके रिश्तेदारों को सामुदायिक कॉम्पलेक्स में स्नान करने और वहां खाना बनाने पर रोक लगा दी है.

दुर्गाशंकर की बड़ी बेटी मीना का कहना है कि, "पंचायत ने पहले हमसे पिता के अंतिम संस्कार में हिस्सा न लेने का फरमान सुनाया, जिसका हमने विरोध किया. हमने जब पिता का अंतिम संस्कार पूरा कर लिया तो उन्होंने हमसे माफी मांगने के लिए कहा. हमने माफी मांगने से भी इंकार कर दिया. हमने पंचायत से कहा कि पिता का अंतिम संस्कार करने कोई गलत बात नहीं है.”

मीना के मुताबिक जब वो पिता का अंतिम संस्कार करने के बाद अपनी बहनों के साथ लौटी तो उन्हें स्नान करने से रोकने के लिए सामुदायिक केंद्र को बंद कर दिया गया. इस पर परिवार के सभी लोग और महिलाओं को घर में स्नान करना पड़ा. वहीं इस मामले में बूंदी म्यूनिसिपलिटी के पूर्व चेयरमैन एवं पंचायत के एक नेता ने सफाई देते हुए कहा कि परिवार ने सामुदायिक भवन की चाबी की मांग नहीं की थी.

ये भी पढ़ें- मराठा आंदोलन के साथ जल उठा महाराष्ट्र, पुणे-नासिक हाईवे पर बसों में तोड़फोड़

First published: 30 July 2018, 17:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी