Home » राजस्थान » Rajasthan Governor Kalraj Mishra issues orders to convene Assembly Session from 14th August instead of 31st July
 

राजस्थान: 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाए जाने की राज्यपाल ने दी अनुमति

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 July 2020, 7:29 IST

Governor Kalraj Mishra issues orders to convene Assembly Session: राजस्थान सरकार (Government of Rajasthan) और राज्य के गवर्नर (Governor) के बीच चला आ रहा गतिरोध आखिरकार थम गया. राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) ने 14 अगस्त (14th August) से विधानसभा सत्र (Assembly Session) बुलाए जाने की अनुमति दे दी है. विधानसभा सत्र बुलाए जाने की अमुमति मिलने से करीब दो घंटा पहले सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) कैबिनेट ने विधानसभा सत्र बुलाए जाने के संशोधित प्रस्ताव को मंजूरी दी थी.

जिसमें 31 जुलाई के स्थान पर 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाए जाने का प्रस्ताव था. इसके साथ ही सत्र की शुरुआत करने के लिए 21 दिन के स्पष्ट नोटिस की अनिवार्यता भी पूरी हो गई. इसी पर राज्यपाल कलराज मिश्र बार-बार जोर दे रहे थे. इससे पहले राजस्थान के एक वरिष्ठ मंत्री ने उम्मीद जताई थी कि गतिरोध जल्द ही खत्म होगा. कैबिनेट बैठक के बाद परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा, "प्रस्ताव राज्यपाल के पास भेजा जा रहा है. मुझे पक्की उम्मीद है कि गतिरोध खत्म होगा और विधानसभा सत्र जल्द ही होगा."


उन्होंने कहा कि, "मुख्यमंत्री गहलोत की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्रस्ताव बनाकर भेज दिया गया है. वह प्रस्ताव राजस्थान के हित में है." इससे पहले राजभवन ने गहलोत सरकार की ओर से भेजे गए संशोधित प्रस्ताव को बुधवार को तीसरी बार सरकार को वापस कर दिया था. इसमें राज्यपाल ने सरकार से सवाल किया था कि वह अल्पावधि के नोटिस पर सत्र आहूत क्यों करना चाहती है इसे स्पष्ट करें. इसके साथ ही राज्यपाल ने सरकार से कहा कि यदि उसे विश्वास मत हासिल करना है तो यह जल्दी यानी अल्पसूचना पर सत्र बुलाए जाने का कारण हो सकता है.

Rafale Fighter Jet: भारत की इन जरूरतों को पूरा करेगा राफेल लड़ाकू विमान, देश के पास हैं ये भी फाइटर एयरक्राफ्ट

राजभवन की ओर से सीएम की फाइल लौटाए जाने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद बुधवार दोपहर राजभवन में राज्यपाल से मिलने पहुंचे थे. हालांकि, राजभवन के सूत्रों ने इसे शिष्टाचार भेंट बताया, लेकिन इससे पहले गहलोत ने कांग्रेस के एक कार्यक्रम में कहा था कि, "वे राज्यपाल महोदय से जानना चाहेंगे कि वे चाहते क्या हैं ... ताकि हम उसी ढंग से काम करें." उसके बाद राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने भी बुधवार शाम राज्यपाल कलराज मिश्र से मुलाकात की. आधिकारिक रूप से इसे भी शिष्टाचार भेंट बताया गया है.

NEP 2020: नई शिक्षा नीति के तहत हुए कई महत्वपूर्ण बदलाव, बदल जाएगी पूरी शिक्षा व्यवस्था, जानिए 10 बड़ी बातें

First published: 30 July 2020, 7:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी