Home » राजस्थान » Rajput Karni Sena Chief Kalvi: We will not allow obscenity on land of Rajputs
 

करणी सेना प्रमुख कालवी का बयान- राजपूतों की धरती पर अश्लीलता की इजाज़त नहीं देंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2017, 13:11 IST

राजस्थान के संगठन राजपूत करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने फिल्म पद्मावती से जुड़े विवाद पर कहा है कि इससे पहले भी फिल्म जोधा अकबर में इसी तरह की बात हुई थी. 

शुक्रवार को करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने जयपुर के जयगढ़ किले में चल रही फिल्म की शूटिंग में हंगामा खड़ा करते हुए सेट को तोड़ दिया था. इस दौरान करणी सेना के लोगों ने फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली के साथ मारपीट भी की थी. 

करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी का कहना है, "यही चीज़ जोधा-अकबर के दौरान हुई थी. इतिहास में जो नहीं है, उसको फिल्म में नहीं दिखाना चाहिए." 

कालवी ने साथ ही भंसाली पर हमले को जायज ठहराते हुए कहा, "हमारी नाक के नीचे राजपूतों की जमीन पर वे हमारे पूर्वजों के इतिहास से छेड़छाड़ कर रहे हैं. इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती." करणी सेना का दावा है कि पद्मिनी चित्तौड़ की एक बहादुर रानी थीं, जिन्होंने अलाउद्दीन खिलजी के आगे समर्पित होने के बजाए अपनी जान दे दी. 

शुक्रवार को अलाउद्दीन खिलजी और पद्मिनी को लेकर कथित रूप से एक लव सीन फिल्माया जाना था. बताया जा रहा है कि इसी से भड़के करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने सेट पर तोड़फोड़ करते हुए भंसाली से मारपीट की.

'पुलिस से शिकायत करनी चाहिए'

कालवी ने साथ ही कहा समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, "बिना इजाजत लिए वहां शूटिंग हो रही थी. राजपूतों की धरती पर हमारे आदर्श पूर्वजों के खिलाफ अश्लीललता फैलाने की इजाजत राजपूत करणी सेना किसी सूरत में नहीं देगी." 

इस बीच राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "ऐसे मामलों में गुस्सा स्वाभाविक है, लेकिन इसका इजहार कानून की सीमाओं से बाहर जाकर नहीं होना चाहिए. कानून को तोड़कर कोई गुस्सा नहीं प्रकट कर सकता. कानून अपने हाथ में लेने के बजाए उन्हें पुलिस से शिकायत करनी चाहिए थी."

First published: 28 January 2017, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी