Home » धर्म » Bhaiya Dooj 2018 : Know Bhaiya Dooj Shubh Muhurt Katha And Vrat
 

भाई दूज पर इस बार पड़ रहे हैं तीन शुभ मुहूर्त, जानिए पूरी व्रत कथा और महत्व

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2018, 11:09 IST

देशभर में आज भाई दूज का त्योहार मनाया जा रहा है. ये त्योहार कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है. इस दिन बहनें व्रत, पूजा, कथा आदि कर भाई की लंबी उम्र की कामना करती हैं और उनके माथे पर टिका लगाती हैं. इसके बदले भाई भी उनकी रक्षा का संकल्प लेते हुए उपहार देते हैं. ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक भैया दूज इस बार विशाखा नक्षत्र में मनाया जाएगा.

ये है भैया दूज की कथा

पुराणों में बताया गया है कि भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था. उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था. यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी. वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो. अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालता रहा.

कार्तिक शुक्ला के दिन यमुना ने फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया. यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं. मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता. बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है.

ये भी पढ़ें- जानिए पूजा-पाठ और धार्मिक अनुष्ठानों के दौरान क्यों पहने जाते हैं पीले वस्त्र

ये भी पढ़ें- धनतेरस से पहले इस मंत्र को जपने से मिलती है हर क्षेत्र में सफलता, धन की कमी होती है दूर

ये भी पढ़ें- ये है धनतेरस का शुभ मुहूर्त, इस समय खरीददारी करने से घर आएगी लक्ष्मी

बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया. यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया. यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया.

ये भी पढ़ें- बंद घड़ी को घर में रखने से होते हैं ये दुष्प्रभाव, वैवाहिक जीवन हो जाता है बर्बाद

यमुना ने कहा कि भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो. मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करें, उसे तुम्हारा भय न रहे. यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक चले गए. इसी दिन से भैया दूज पर्व को मनाने की परम्परा चली आ रही है. ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता. इसीलिए भैयादूज को यमराज तथा यमुना का पूजन किया जाता है.

ये भी पढ़ें- भारत ही नहीं इन देशों में भी मनाई जाती है दीपावली, हिंदुस्तान से अनोखा होता है मनाने का अंदाज

ये है भाई दूज का शुभ मुहूर्त

सुबह- 9:20 से 10:35 तक
दोपहर-1:20 से 3:15 तक
शाम-4:25 से 5:35 और 7:20 से रात 8:40 तक

ये भी पढ़ें- जानिए क्यों की जाती है गोवर्धन पूजा, भगवान कृष्ण से क्यों नाराज हो गए थे इंद्र

First published: 9 November 2018, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी