Home » धर्म » Buddha Purnima 2018 know about Buddha Purnima significance date and Shubh Muhurta
 

Buddha Purnima 2018: जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और भगवान बुद्ध के उपदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2018, 13:16 IST

हिंदू पंचांग के वैशाख माह की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है. इसे बुद्ध जयंती और वैशाख पूर्णिमा भी कहा जाता है. इस दिन ही भगवान बुद्ध का महापरिनिर्वाण भी मनाया जाता है. इसी दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था. इसी दिन बोधगया में पीपल के वृक्ष के नीचे उन्हें बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी और वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध ने गोरखपुर से 50 किलोमीटर दूर स्थित कुशीनगर में महानिर्वाण की ओर प्रस्थान किया थाइस बार बुद्ध पूर्णिमा 30 अप्रैल को पड़ रही है. हिंदू धर्म के मुताबिक भगवान बुद्ध, भगवान विष्णु के नौवें अवतार हैं.

भगवान बुद्ध ने चार आर्य सत्य बताए. जिन्हें सभी मनुष्यों को मानना चाहिए. जिनमें दुख है. दुख का कारण है. दुख का निवारण है. दुख निवारण का उपाय है. भगवान बुद्ध के अनुसार पवित्र जीवन जीने के लिए मनुष्य को दोनों प्रकार की अति से बचना चाहिए. न तो उग्र तप करना चाहिए और न ही सांसारिक सुखों में लगे रहना चाहिए. उन्होंने मध्यम मार्ग के महत्व पर बल दिया. भगवान बुद्ध ने 2500 साल पहले धरती पर लोगों को अहिंसा और दया का ज्ञान दिया था.

भगवान बुद्ध के उपदेश

भगवान बुद्ध को महात्मा बुद्ध भी कहा जाता है. महात्मा बुद्ध ने हमेशा मनुष्य को भविष्य की चिंता से निकलकर वर्तमान में खड़े रहने की शिक्षा दी. उन्होंने दुनिया को बताया आप अभी अपनी जिंदगी को जिएं, भविष्य के बारे में सोचकर समय बर्बाद ना करें. महात्मा बुद्ध का एक मूल सवाल है. जीवन का सत्य क्या है? भविष्य को हम जानते नहीं है. अतीत पर या तो हम गर्व करते हैं या उसे याद करके पछताते हैं. भविष्य की चिंता में डूबे रहते हैं. दोनों दुखदायी हैं.

इसी दिन होती है सत्य विनायक पूर्णिमा

भगवान बुद्ध दुनिया के सबसे महान महापुरुषों में से एक हैं. हिन्दू धर्म को मानने वालों के लिए ये दिन बहुत पवित्र माना जाता है. क्योंकि इसी दिन भगवान बुद्ध ने मोक्ष की प्राप्त हुई थी. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक इसी दिन श्रीकृष्ण ने उनसे मिलने पहुंचे उनके मित्र सुदामा को सत्य विनायक व्रत करने की सलाह दी थी. जिससे सुदामा की गरीबी समाप्त हो गई. इसीलिए इस दिन को सत्य विनायक पूर्णिमा के रूप में भी मनाया जाता है.

 

धर्मराज की करें पूजा

इस दिन 'धर्मराज' की पूजा का भी विधान है. इस दिन धर्मराज की पूजा-उपासना से साधक को अकाल मृत्यु का भय नहीं सताता है. इस दिन गुरु की पूजा करनी चाहिए. इस दिन सच्चे मन से व्रत करने वालों की गरीबी दूर हो जाती है और घर में सुख समृद्धि आती है.

बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त

बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त 29 अप्रैल 2018 को सुबह 6:37 बजे से शुरू होकर 30 अप्रैल 2018 को 6:27 बजे तक रहेगा. हिंदू धर्म में हर त्योहार उदया तिथि को ही मनाया जाता है, इसलिए बुद्ध पूर्णिमा भी 30 अप्रैल यानि सोमवार के ही दिन मनाया जाएगा.

ये भी पढ़ें21 बार धरती को क्षत्रिय विहीन करने वाले परशुराम नहीं थे क्षत्रिय विरोधी

First published: 28 April 2018, 13:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी