Home » धर्म » Buddha Purnima 2018 know about religious belief and do this things for prosperity
 

Buddha Purnima 2018: घर में सुख समृद्धि के लिए करें ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 April 2018, 11:16 IST

आज बुद्ध पूर्णिम का पावन पर्व है. ये त्योहार बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए विशेष महत्व रखनेवाला है. इस त्योहार को बुद्ध जयंती के रूप में भी मनाया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि इसी दिन भगवान बुद्ध को कैवल्य ज्ञान की प्राप्ति भी हुई थी. इस त्योहार को वैशाख माह की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है. इसीलिए इस दिन को बुद्ध पूर्णा के रूप में मनाया जाता है.

ऐसी मान्यता है कि इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की उपासना करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है. वैसे हर महीने की पूर्णिमा को खास माना जाता है. लेकिन वैशाख पूर्णिमा का अपना अलग महत्व है. क्योंकि यह पूर्णिमा भगवान बुद्ध के अवतरण दिवस के रूप में जानी जाती है. भगवान बुद्ध को विष्णु भगवान का नौवां अवतार माना जाता है.

मानसिक परेशानियों से जूझ रहे लोग करें ये काम

इस बार बुद्ध जयंती पर सिद्धि योग भी बन रहा है. कहा जाता है कि जिसमें किए गए शुभ कार्यों की पूर्ण सिद्धि प्राप्त होती है. इस दिन किए गए मंत्र भी तुरंत सिद्ध हो जाते हैं. ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक पूर्णिमा के दिन चंद्र अपनी कलाओं से युक्त रहता है. जो लोग मानसिक तनाव से जूझ रहे हैं उन्हें चांदी के बर्तन में साफ पानी में थोड़ा सा गंगाजल डालकर रातभर चांद की चांदनी में रखना चाहिए.

उसके बाद इस जल को किसी चांदी के ही किसी बर्तन में भरकर रख लेना चाहिए. इस जल का रोजाना थोड़ा-थोड़ा सेवन करने से मानसिक रोग ठीक हो जाते हैं. बता दें कि इस जल में और जल मिलाते जाएं तो यह कभी समाप्त नहीं होगा. यह जल अनेक प्रकार के मानसिक रोगों में आराम देता है.

आर्थिक तंगी से बचने के लिए करें कन्याओं का पूजन

ज्यातिषाचार्यों के मुताबिक घर की आर्थिक तंगी खत्म करने के लिए पूर्णिमा के दिन मिश्री डालकर खीर बनानी चाहिए. इस खीर को 12 वर्ष तक की सात कन्याओं को पूजन करने के बाद खिलाएं. ऐसा करने से आर्थिक संपन्नता बनी रहती है. व्यापार में फायदा होता है, नौकरी में पदोन्नति होती है.

पूर्णिमा के दिन करें घर की साफ-सफाई

वैसे घर में हमेशा ही साफ-सफाई रखनी चाहिए, लेकिन पूर्णिमा के दिन इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए. इसके लिए सूर्योदय से पूर्व उठकर घर में साफ-सफाई करनी चाहिए. स्वयं स्नान करने के बाद घर में गंगाजल और गौमूत्र का छिड़काव करना चाहिए. घर के मुख्य द्वार पर हल्दी, रोली या कुमकुम से स्वस्तिक बनाना चाहिए.

गाय के घी का जलाएं दीपक

कहा जाता है कि इस दिन पूजा के समय गाय के घी का दीपक जलाना चाहिए. साथ ही धूप लगाकर कपूर जलाएं. उसके बाद परिवार सहित देवी लक्ष्मी-विष्णु और भगवान बुद्ध की पूजा करनी चाहिए. साथ ही मां लक्ष्मी को मखाने की खीर, साबूदाने की खीर या किसी सफेद मिठाई का भोग लगाना चाहिए. पूजा करने बाद इस प्रसाद को बांट देना चाहिए.

चंद्रमा को करें जल अर्पित

इस दिन शाम के समय चंद्रमा को जल अर्पित करना चाहिए. साथ ही बुद्ध पूर्णिमा के दिन सुबह या शाम को मंदिर जरूर जाना चाहिए. साथ ही शाम के समय चंद्रमा को जल अर्पित करें. धूप-दीप से उनका पूजन करें. ऐसा करने से हमेशा आपके ऊपर भगवान की कृपा बनी रहेगी.

इस मंत्र का करें जाप

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक पूर्णिमा की रात्रि में तुलसी की माला से ऊं नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का लगातार जाप करना चाहिए. ऐसा करने से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है. जिससे घर में धन संपत्ति आती है.

ये भी पढ़ें- 21 बार धरती को क्षत्रिय विहीन करने वाले परशुराम नहीं थे क्षत्रिय विरोधी

First published: 30 April 2018, 11:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी