Home » धर्म » Do not work on the occasion of maha Shivratri
 

शिवरात्रि के मौके पर भूलकर भी न करें ये काम, वरना भोलेनाथ हो जाएंगे नाराज

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2019, 12:09 IST

पूरे देश में आज शिवरात्रि का पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाया जा रहा है. महाशिवरात्रि के मौके पर ज्यादातर लोग व्रत रखते हैं और शिव मंदिरों में जाकर पूजा-अर्चना करते हैं. शिवालयों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का जमावाड़ा लगा रहता है. मान्यता अनुसार, आज शिवरात्रि पर शिव और पार्वती की शादी हुई थी. इसलिए इस मौके पर शिव बारात निकाली जाती है.

मान्यता अनुसार, शिव जी बहुत ही जल्द नाराज हो जाते हैं. इसलिए शिवरात्रि के दिन और पूजा में कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए. यदि आप भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं. तो इन बातों का ख्याल जरूर रखें-

  • सुबह जल्दी उठे और बिना स्नान किए कुछ भी ना खाएं. व्रत नहीं है तो भी बिना स्नान किए भोजन ग्रहण न करें. यदि आपने व्रत रखा हैं तो सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए.
  • शिवलिंग पर कभी भी कुमकुम का तिलक ना लगाएं, हालांकि भक्तजन मां पार्वती और भगवान गणेश की मूर्ति पर कुमकुम का टीका लगा सकते हैं.
  • अभिषेक हमेशा ऐसे स्टील के पात्र से ना करें, अभिषेक के लिए हमेशा सोना, चांदी या कांसे के वर्तन से करें.
  • भगवान शिव को भूलकर भी केतकी और चंपा फूल नहीं चढ़ाएं. मान्यता अनुसार, इन फूलों को भगवान शिव ने शापित किया था.
  • पूजा में भूलकर भी टूटे हुए चावल नहीं चढ़ाया जाना चाहिए. अक्षत का मतलब होता है अटूट चावल, यह पूर्णता का प्रतीक होता है.
  • नए वस्त्र पहनना जरूरी नहीं है लेकिन साफ-सुथरे कपड़े ही पहनें
  • शिवरात्रि के दिन काले रंग के कपड़े ना पहनें.
  • शिवलिंग पर कभी भी तुलसी की पत्ती नहीं चढ़ाएं.
  • शिवलिंग पर सबसे पहले दूध, गंगाजल, केसर, शहद और जल से बना हुआ पंचामृत चढ़ाना चाहिए.
  • तीन पत्रों वाला बेलपत्र शिव को अर्पित करें, टूटे हुए या कटे-फटे बेलपत्र नहीं चढ़ाना चाहिए.
  • शिवरात्रि पर बेर जरूर अर्पित करें क्योंकि बेर को चिरकाल का प्रतीक माना जाता है.
  • शिवलिंग या भगवान शिव की मूर्ति पर केवल सफेद रंग के ही फूल ही चढ़ाने चाहिए.

प्रेम में विरक्ति है शिव के भस्म प्रिय होने का कारण, जाने इसके पीछे की कथा

First published: 4 March 2019, 12:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी