Home » धर्म » God Sun will disappear darkness of your life and give you happiness and prosperity by offer water everyday
 

रोजाना सूर्यदेव को तांबे के लोटे से करें जल अर्पित, मिट जाएगा जीवन का अंधेरा, घर में आएगी सुख-समृद्धि

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2020, 14:16 IST

How to Worship Sun God: जिंदगी में सुख-समृद्धि (Happiness and Prosperity) के लिए हमें नियमित रूप से भगवान की आराधना (Prayer) करने की सलाह दी जाती है. ऐसे में सबसे पहला सवाल ये पैदा होता है कि आखिर सबसे पहले किस भगवान की पूजा-अर्चना करने से हमारे घर में सुख-समृद्धि आती है. तो इसका जवाब है भगवान सूर्य यानी सूर्यनारायण (Sun God) की. बता दें कि पूरी सृष्टि में सबसे पहले प्रकट होने के कारण ही सूर्य नारायण (Suryanarayan) को आदित्य (Aditya) भी कहा जाता है.

इसीलिए नवग्रहों में भी सूर्यदेव प्रमुख होते हैं. भगवान सूर्य के रथ में सात घोड़े होते हैं जिसमें एक चक्र लगा होता है. जिसे संवत्सर कहा जाता है. भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए गेहूं का दान करना शुभ माना जाता है. साथ ही सूर्यदेव को प्रतिदिन अर्घ्य अर्पित करने से भी सुख-समृद्धि आती है. लेकिन इस बात का जरूर ध्यान रखना चाहिए कि जब भी भगवान सूर्य को जल अर्पित करें वह पात्र तांबे का होना चाहिए. यानी तांबे के लोटे से ही भगवान सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए.


अगर आपके घर में सूर्य का प्रकाश नहीं आता तो वहां प्रतीकात्मक सूर्यदेव की मूर्ति जरूर लगाएं. लाल और पीले वस्त्रों का दान करने से सूर्यदेव प्रसन्न होते हैं. इसके अलावा उत्तर दिशा में सूर्यदेव की मूर्ति या चित्र लगाने से घर में कभी रुपये-पैसों की कभी कमी नहीं होती. ऐसा माना जाता है कि बच्चों के कमरे में सूर्यदेव की मूर्ति लगाने से बच्चों का मन पढ़ाई में लगने लगता है. इसके साथ ही घर के ऐसे स्थान जहां परिवार के लोग अधिक समय व्यतीत करते हों वहां भी सूर्यदेव की मूर्ति लगाने से घर से बीमारियां दूर हो जाती हैं और परिवार के सदस्य स्वस्थ रहते हैं.

बता दें कि नवग्रहों में सूर्य देव का वर्ण लाल है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्यदेव का एक नाम सविता भी है, जिसका अर्थ है सृष्टि करने वाला. इन्हीं से जगत उत्पन्न हुआ है. सूर्यदेव को प्रसन्न करने के लिए प्रत्येक रविवार को व्रत रखना भी शुभ फल देता है. इसके अलावा रसोईघर में तांबे की सूर्य प्रतिमा लगाना भी शुभ माना जाता है ऐसा करने से घर में कभी अन्न की कमी नहीं होती.

घर के मुखिया के बेडरूम में सूर्य प्रतिमा लगाने से परिवार में किसी तरह की परेशानी नहीं आती. व्यापार में नुकसान हो रहा हो तो ऑफिस या दुकान में सूर्य प्रतिमा लगानी चाहिए. साथ ही घर के मंदिर में तांबे की सूर्य प्रतिमा लगाने से घर-परिवार पर सूर्यदेव की कृपा सदैव बनी रहती है.

ऐसी धार्मिक मान्यताएं है कि पृथ्वी का जीवन सूर्य से ही. सूर्य ऐसे देव हैं जिन्हें साक्षात देखा जा सकता है. सूर्यदेव की उपासना से सदा निरोगी रहने का वरदान प्राप्त होता है. सूर्य को अग्नि का स्वरूप माना गया है और यह वास्तु शास्त्र को प्रभावित करते हैं. धार्मिक मान्यता के मुताबिक, सूर्यदेव की उपासना से बड़े से बड़ा अशुभ टल जाता है. सूर्यदेव की नित्य आराधना करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है.

ऐसा माना जाता है कि अगर परिवार में कोई गंभीर रूप से बीमार है या जीवन में उन्नति नहीं मिल रही है तो तांबे के लोटे से सूर्यदेव को प्रतिदिन सूर्योदय के समय जल अर्पित करना चाहिए. वास्तु शास्त्र के मुताबिक, मध्य रात्रि से तड़के 3 बजे तक सूर्य पृथ्वी के उत्तरी भाग में रहते हैं. यह समय गोपनीय होता है. यह दिशा व समय कीमती वस्तुओं या जेवरात को गुप्त स्थान पर रखने के लिए उत्तम माना जाता है.

इसके साथ ही सूर्योदय से पूर्व पवित्र नदी में स्नान करने और सूर्य को दीपदान करने से शुभफल की प्राप्ति होती है. सूर्योदय से पहले ब्रह्म मुहूर्त का समय चिंतन-मनन व अध्ययन के लिए अच्छा माना जाता है. घर में सूर्य की पर्याप्त रोशनी आने की व्यवस्था होनी चाहिए और रसोईघर एवं स्नानघर में भी सूर्य की पर्याप्त रोशनी आना भी शुभ माना जाता है. भगवान सूर्य की पूजा के वक्त करें इस मंत्र का जाप- जब भी भगवान सूर्य की पूजा करें तो-

'ॐ सूर्य आत्मा जगतस्तस्युषश्च, आदित्यस्य नमस्कारं ये कुर्वन्ति दिने दिने।

दीर्घमायुर्बलं वीर्यं व्याधि शोक विनाशनम् , सूर्य पादोदकं तीर्थ जठरे धारयाम्यहम्।।

Mahashivratri 2020: 117 साल बाद बन रहा शुक्र और शनि का दुर्लभ योग, ये काम करने की न करें गलती

महाशिवरात्रि पर ऐसे करें भोलेनाथ का जलाभिषेक, बनेंगे हर बिगड़े काम मनोकामना होगी पूरी

IIMC Alumni Meet 2019: प्रशांत किशोर के साथ किया काम, बद्रीनाथ को मिला PR पर्सन ऑफ द इयर अवार्ड

First published: 17 February 2020, 14:10 IST
 
अगली कहानी