Home » धर्म » Maha Shivratri 2019: When life become difficult, remember Lord Mahadev
 

जब जिंदगी हो जाए कठिन.. तो देवों के देव महादेव की इन बातों को करें याद, मिल जाएगा रास्ता

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2019, 12:11 IST

जिंदगी में कुछ ऐसे मोड़ आ जाते हैं, जब हमें लगता है कि अब हम जी नहीं पाएंगे. तब जिंंदगी बहुत कठिन हो जाती है और कोई राह नहीं दिखती. तब कुछ भी सही नहीं होता. उस समय हम एक मार्गदर्शन की जरूरत में भटक रहे होते हैं. जो हमें जिंदगी और जीवन की सच्चाई बताए. तब देवों के देव महादेव की बातें हमें जीवन का महत्व समझाती हैं.

शिव जी ने कहा है कि अपने दुख का कारण व्यक्ति किसी और को समझेगा तो हमेशा दुखी रहेगा. हर व्यक्ति अपनी पीड़ा का स्वयं जिम्मेदार होता है और उसके कर्म उन्हें कठिनाइयों में डालते हैं. शिव जी ने कहा है कि अपने दोष किसी और पर आरोपित करके आप सुखी नहीं रह सकते इसलिए अपने आप को बदलिए दुनिया स्वयं बदल जाएगी.

शिव जी ने कहा है कि प्रत्येक आत्मा का लक्ष्य केवल सुख की प्राप्ति है. परंतु वो सुख है परमानंद की प्राप्ति. मानव सुख को प्रदान करने वाली वस्तुओं को एकत्रित करना ही जीवन का उद्देश्य मान लेते हैं. यह समस्त संसार मात्र एक माया है, सब नश्वर है. हम जिन वस्तुओं को सुख का स्त्रोत समझते हैं वे सदैव नही रहेंगी.

शिव जी ने कहा है जो व्यक्ति इस सत्य को जानते हुए भी लोभ का परित्याग नहीं करते वो सदैव इन्हे खोने के भय मे जीते हैं. जो व्यक्ति इस सत्य को जानते ही नहीं वो अहंकार मे जीते हैं और जहां अहंकार और भय हो वहां सुख कैसे रह सकता है?

महादेव ने कहा है कि किसी को दु:ख है कि उसके पास कुछ भी नहीं है और जिसके पास सब कुछ है उसे ये दु:ख है कि पाने को कुछ शेष नहीं. हम स्वयं सुख को अपने दृष्टीकोण से परिभाषित कर देते हैं. जो आशक्त हैं निर्बल हैं, जिस में युद्ध करने का सामर्थ्य नहीं. उस पर आक्रमण करना युद्ध नहीं अत्याचार हैं, वीरता नहीं कायरता हैं.

भोलेनाथ कहते हैं कि लोभ और महत्वाकांक्षा की पूर्ति के लिए तीनों लोक का धन कम हैं. लोभ छोड़कर आप जितना जमा करते हैं उतना ही पूरक है. संतोष को जितना बाहर ढूंढोगे, उतना ही असंतोष बढ़ेगा! तुम्हारे बाहर जो कुछ है, सब नश्वर है! संतोष के लिये अनिवार्य तत्त्व केवल अपने भीतर ही हैं! अपने अंतर्मन तक पहुंचने का मार्ग केवल योग से प्रशस्त हो सकता है.

First published: 4 March 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी