Home » धर्म » Mahashivratri 2019 Know the puja vidhi of Lord Shiva on Mahashivratri and puja samagri
 

महाशिवरात्रि 2019: इस विधि से पूजा करने से प्रसन्न होंगे भोलेनाथ, जानिए शुभ मुहूर्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 March 2019, 15:13 IST

पूरे देश में आज महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है. आज भोलेनाथ के भक्त व्रत रखेंगे और शिवलिंग की पूजा करेंगे. शिवरात्रि का त्योहार भोले के भक्तों के लिए बेहत खास होता है. इस दिन भोले के भक्त व्रत रखकर खास पूजा-अर्चना करते हैं. यही नहीं महिलाओं के लिए भी महाशिवरात्रि का व्रत बेहद ही फलदायी माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि महाशिवरात्रि का व्रत रखने से अविवाहित लड़कियों की शादी जल्दी होती है.

वहीं, विवाहित महिलाएं अपने सुखी जीवन के लिए महाशिवरात्रि का व्रत रखती हैं. महाशिवरात्रि पर प्रदोष काल यानि सूर्यास्त के बाद रात और दिन के बीच के समय को पूजा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है. इस समय की गई पूजा से भगवान शिव जल्द खुश हो जाते हैं. वहीं इसके बाद रातभर जागरण कर के रात के चारों प्रहर में पूजा करने से भोलेनाथ बहुत प्रसन्न होते हैं.

महाशिवरात्रि पर कैसे करें पूजा

महाशिवरात्रि पर व्रत रखने के दौरान शिव मंत्र (ऊं नम: शिवाय) का जाप करें तथा पूरा दिन निराहार रहें. शिवपुराण में रात्रि के चारों प्रहर में शिव पूजा का विधान है. शाम को स्नान करके किसी शिव मंदिर में जाकर या घर पर ही पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके त्रिपुंड एवं रुद्राक्ष धारण करके पूजा का संकल्प इस प्रकार लें-

ममाखिलपापक्षयपूर्वकसलाभीष्टसिद्धये शिवप्रीत्यर्थं च शिवपूजनमहं करिष्ये

पूजा के दौरान इन बातों का रखे ध्यान

व्रत रखने वाले भक्त को फल, फूल, चंदन, बिल्व पत्र, धतूरा, धूप व दीप से रात के चारों प्रहर में शिवजी की पूजा करनी चाहिए साथ ही भोग भी लगाना चाहिए. दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से अलग-अलग तथा सबको एक साथ मिलाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराकर जल से अभिषेक करेंचारों प्रहर की पूजा में शिवपंचाक्षर मंत्र यानी ऊं नम: शिवाय का जाप करें.

भव, शर्व, रुद्र, पशुपति, उग्र, महान, भीम और ईशान, इन आठ नामों से फूल अर्पित कर भगवान शिव की आरती और परिक्रमा करें.

महाशिवरात्रि पर पूजा का शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि के दिन भोलेनाथ की पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 7.15 से 8.14 बजे तक है. उसके बाद सुबह 9.43 बजे से 11.10 तक का है. उसके बाद दोपहर 2.02 से 3.30 तक भी बाबा बर्फानी की पूजा की जा सकती है. दोपहर 3.30 से शाम 4.39 बजे तक भी भोलेनाथ की पूजा का शुभ मुहूर्त है.

वहीं रात में भी बाबा भोलेनाथ की पूजा की जा सकती है जिसके शुभ मुहूर्त शाम 6.22 बजे से रात 9.28 बजे तक भी पूजा की जा सकती है. उसके बाद भगवान शिव की पूजा का शुभ मुहूर्त रात 9.28 से मध्य रात्रि 12.35 बजे तक का है. तीसरे प्रहर की पूजा का समय रात्रि 12.35 बजे से रात्रि 3.41बजे तक का है. वहीं चौथे प्रहर की पूजा का समय रात्रि 3.41 बजे से अगले दिन सुबह 6 बजकर 48 मिनट तक का है.

महाशिवरात्रि पर इन मंत्रों का जाप करने से प्रसन्न होते हैं भोलेनाथ, बनते है सब बिगड़े काम

First published: 3 March 2019, 15:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी