Home » धर्म » Mahashivratri 2020: Chant Bholenath's this mantra on Maha shivratri every trouble and problem will be averted
 

महाशिवरात्रि पर करें भोलेनाथ के इस मंत्र का जाप, टल जाएगी हर मुसीबत और बला

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 February 2020, 13:10 IST

Mahashivratri 2020: भगवान शिव (Lord Shiva) को समर्पित महाशिवरात्रि का पर्व (Mahashivratri Festival) इस साल 21 फरवरी (21st February) यानी शुक्रवार (Friday) को मनाया (Celebrate) जाएगा. इस दिन भोले (Bhole) के भक्त पूरे दिन व्रत रखते हैं और शिवालयों (Shivalayas) में शिवलिंग (Shivlinga) पर जल चढ़ाते हैं. भोलेनाथ को प्रसंन्न करने लिए शिव भक्त भोलेनाथ की पसंदीदार चीजें जैसे भांग और धतूरा भी शिवालयों में चढ़ाते हैं.

इस दिन शिव भक्त भांग की ठंड़ाई भी लोगों को बांटते हैं. शिवरात्रि के इस मौके पर हम आपको भगवान शिव के कुछ ऐसे मंत्रों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका जाप आपको शिवरात्रि के दिन करना चाहिए. इन मंत्रों का जाप करने से आप पर आने वाली हर विपत्ति, परेशानी और मसीबत टल जाएगी. साथ ही आपको लंबी उम्र का वरदान भी मिलेगा. हालांकि इन मंत्रों का जाप करते वक्त कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए. क्योंकि अगर इन मंत्रों का जाप ठीक से न किया जाए तो इनका पूरा फल नहीं मिलता है. ये मंत्र है महामृत्युंजय मंत्र.

बता दें कि महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते वक्त कुछ सावधानियां बरतना जरूरी है. ये सावधानियां इस प्रकार से हैं-
ये है महामृत्युंजय मंत्र- ऊं हौं जूं सः ऊं भूर्भुवः स्वः ऊं त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मामृतात् ऊं स्वः भुवः भूः ऊं सः जूं हौं ऊं

सबसे पहले महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय तन यानी शरीर और मन बिल्कुल साफ होना चाहिए. साथ ही आपके मन में किसी तरह की गलत भावना भी नहीं होनी चाहिए. वहीं महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते वक्त उच्चारण ठीक ढंग से करना भी शुभ माना जाता है. इसके अलावा अगर स्वयं मंत्र न बोल पाएं तो किसी योग्य पंडित से भी इसका जाप करवाया जा सकता है. यही नहीं इस मंत्र का जाप निश्चित संख्या में करना चाहिए. समय के साथ जाप संख्या बढ़ाई जा सकती है.

वहीं भगवान शिव की मूर्ति या चित्र के सामने बैठकर या महामृत्युंजय यंत्र के सामने बैठकर ही इस मंत्र का जाप करना शुभ माना जाता है. इसके अलावा इस मंत्र जाप करते वक्त पूरे समय धूप-दीप जलते रहना चाहिए. इस मंत्र का जाप केवल रुद्राक्ष माला से ही करना चाहिए. साथ ही बिना आसन पर बैठे इस मंत्र का जाप नहीं करना चाहिए. यही नहीं इस मंत्र का जाप पूर्व दिशा की ओर मुंह करके करना चाहिए.

रोजाना सूर्यदेव को तांबे के लोटे से करें जल अर्पित, मिट जाएगा जीवन का अंधेरा, घर में आएगी सुख-समृद्धि

महाशिवरात्रि पर ऐसे करें भोलेनाथ का जलाभिषेक, बनेंगे हर बिगड़े काम मनोकामना होगी पूरी

Mahashivratri 2020: 117 साल बाद बन रहा शुक्र और शनि का दुर्लभ योग, ये काम करने की न करें गलती

First published: 20 February 2020, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी