Home » धर्म » Ramadan 2019 know the First Ramdhan date Sehri and Iftar timing
 

रमजान 2019: जानिए कब से शुरु होगा रमजान का पवित्र महीना, इस दिन होगा पहला रोजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2019, 13:29 IST

रमजान का महीना इस्लाम धर्म में सबसे पवित्र महीना माना जाता है. रमजान के दौरान इस्लाम धर्म को मानने वाले लोग 30 दिनों तक रोजा रखते हैं और इबादत करते हैं. इस साल रमजान का पवित्र महीना 5 मई रविवार से शुरु होने वाला है. हालांकि , चांद देखने के बाद ही रमजान का पहला रोजा रखा जाएगा. रमजान महीने के 30 दिनों बार शव्वाल महीने की पहली तारीख को ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जाता है.

हमारे देश में ईद-उल-फितर को लोग मीठी ईद के नाम से भी जानते हैं. मुस्लिम धर्म के लोग ईद के दिन गरीब लोगों को फितरा भी बांटते हैं जो एक तरह का दान होता है. रोजा रखने से पहले लोग सूूरज उगने से पहले जाग जाते हैं और उसके बाद सेहरी करते हैं यानि कुछ खाते-पीते हैं. उसके बाद रोजा शुरु होता है. उसके बाद पूरे दिन कुछ नहीं खाते-पीते. साथ ही अल्लाह की इबादत करते हैं.

वैसे मुस्लिम धर्म के लोग हर रोज पांच वक्त की नमाज अदा करते हैं लेकिन रमजान के महीने में मस्जिदों में भारी भीड़ देखने को मिलती है. शाम को सूरज डूबने के बाद इफ्तार के साथ रोजा पूरा होता है. यानि सूरज डूबने के बाद कुछ खाने के बाद रोजा खोला जाता है. बता दें कि रमजान के महीने को नेकियों का महीना भी कहा जाता है.

तीस दिन रोजा रखने के बाद ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जाता है. ऐसा माना जाता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब के बद्र के युद्ध में विजय हासिल करने के बाद लोगों ने खुशियां मनाईं उसी दिन को ईद-उल-फितर के रूप में मनाया जाने लगा. ऐसा माना जाता है कि पहली बार ईद उल-फितर का त्योहार624 ईस्वी में मनाया गया था.

ईद-उल-फितर के दिन हर घर में मीठे पकवान बनाए जाते हैं. लोग एक-दूसरे के गले मिलकर ईद की मुबारकबाद देते हैं. साथ ही गरीब लोगों को दान देकर अपनी मगफितक की दुआ की जाती है. दान देने की इस प्रथा को फितना कहा जाता है यही वजह है कि ईद के इस त्योहार को ईद उल-फितर कहा जाता है.

First published: 4 May 2019, 13:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी