Home » धर्म » Second day of Chaitra Navratri worship of Goddess Brahmacharini the Avatar of Maa Durga
 

Chaitra Navratri 2019: नवरात्रि के दूसरे दिन करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2019, 11:11 IST

आज चैत्र नवरात्रि का दूसरा दिन है. आज के दिन मां दुर्गा के दूसरे रूप ब्रह्मचारिणी की आराधनी की जाती है. मां दूर्गा का दूसरा रूप यानि मां ब्रह्मचारिणी मनुष्य के अंदर के तप और संघर्ष करने की क्षमता प्रदान करती हैं. आज के दिन खासकर विद्यार्थियों को मां ब्रह्मचारिणी की आराधना जरूर करनी चाहिए. जिससे उन्हें पढ़ाई में संघर्ष करने की ताकत मिले और वो आगे तरक्की कर सकें.

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी भक्तों और साधकों को अनन्तफल दायक होता है. मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करने से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है. साथ ही जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य-पथ से विचलित नहीं होता.

इसलिए भी मां ब्रह्मचारिणी की आराधना करना शुभ माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि मां ब्रह्मचारिणी की कृपा से सर्वत्र सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है. चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करना शुभ माना जाता है. इस दिन साधक का मन स्वाधिष्ठान चक्र में स्था्पित होता है. इस चक्र में अवस्थित मनवाला योगी समान बन कर माता की कृपा और भक्ति का आशीर्वाद प्राप्त करता है.

इस दिन कन्या भोज करना भी शुभ माना जाता है. ऐसे लोग इस दिन कन्याओं का पूजन कर उन्हें भोग जरूर लगाए. यही नहीं ऐसा मान्यता है कि इस दिन जो अविवाहित कन्या भोज का भोजन ग्रहण करती है उसका विवाह जल्द तय हो जाता है. इस दिन कन्याओं को भोजन कराकर वस्त्र आदि जरूर भेंट करें.

ऐसी मान्यता है कि मां ब्रह्मचारिणी पर्वतराज हिमालय और मैना की पुत्री हैं. उन्होंने देवर्षि नारद जी के कहने पर भगवान शंकर की कठोर तपस्या की. जिससे प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने इन्हें मनोवांछित वरदान दिया और ये शिव की पत्नी बनीं. ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति अध्यात्म और आत्मिक आनंद की कामना रखते हैं उन्हें ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी चाहिए. इनकी पूजा करने वाले की इंद्रियां पर मनुष्य का नियंत्रण हो जाता है और उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है.

इन चीजों के बिना मां दुर्गा की अराधना है अधूरी, जानें कैसे करें मां की पूजा

First published: 7 April 2019, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी