Home » धर्म » Shani Jayanti 2020: know here Shani Jayanti date pooja timing and shani mantra
 

Shani Jayanti 2020: शनि को मनाने के लिए ऐसे करें पूजा, बन जाएंगे हर बिगड़े काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 May 2020, 14:10 IST

Shani Jayanti 2020: भारत तीज-त्योहारों का देश है, यहां आए दिन कोई ना कोई त्योहार मनाया जाता है. आगामी 22 मई को शनि जयंती का पर्व मनाया जाएगा. हिंदू धर्म में मान्यता है कि अगर शनि रूठ जाए तो तमाम बने हुए काम भी बिगड़ जाते हैं. ऐसे में इस बार शनि जयंती पर आप भगवान शनि को प्रसन्न कर सकते हैं. उसके लिए आपको कुछ उपाय अभी से करने होंगे. ऐसा करने से ना सिर्फ भगवान शनि प्रसन्न होंगे बल्कि आपके बिगड़े हुए काम भी बनने लगेंगे.

बता दें कि शनि जयंती हर साल ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को मनाई जाती है. अगर शनिदेव की कृपा पाना चाहते हैं आगामी शनि जयंती तक हर रोज शनिदेव की इस स्तुति का पाठ करें एवं शनि जयंती वाले दिन पूर्णाहुति के रूप में इस स्तुति चालिसा के मंत्रों से हवन कर शनि देव को प्रसन्न किया जा सकता है. इसके लिए आप रोजाना भगवान शिव को समर्पित शनि स्तुुति चालीसा का पाठ करें साथ ही शनि चौपाई भी पढ़े- ये है शनि स्तुति चालीसा.


घर को बुरी नजर बचाने के लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स, नेगेटिविटी रहेगी दूर!

ये है शनि स्तुति चालीसा-

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल. दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥

जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज. करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

घर पर भूलकर भी न लगाएं ये चीजें, वास्तु के हिसाब से होता है अशुभ

इसके अलावा आप भगवान शनि को प्रसन्न करने के लिए इन उपायों का भी प्रयोग कर सकते हैं. जिनमें पहला उपाय है- भोजन करते वक्त अपने खाने में काला नमक और काली मिर्च का इस्तेमाल जरूर करें. ऐसा करने से शनि प्रसन्न होते हैं. 2. मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए. यदि शनि की अशुभ दशा चल रही हो तो ऐसे में मांस मदिरा का सेवन करने से बचें, क्योंकि इसका सेवन करना आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है.

लॉकडाउन में शनि को शांत करने के लिए करें इस पौधे की पूजा, यज्ञ करने से समाप्त होगा कोरोना का असर

3. शनिवार के दिन बंदरो को भुने हुए चने खिलाने से शनिदोष से मुक्ति मिलती है. साथ ही मीठी रोटी में तेल लगाकर काले कुत्ते को खिलाने से आप पर शनि का अच्छा प्रभाव पडता है. 4. हर रोज पूजा करना शुभ माना जाता है. हर रोज शनि की पूजा करने व महामृत्युंजय मंत्र 'ॐ नम: शिवाय' का जाप करने से शनि के दुष्प्रभावों से मुक्ति मिलती है. जिससे आपका जीवन काफी सुखमय तरीके से बीतेगा. 5. शनि के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए घर के किसी भी कोने में जहां अंधेरा हो वहां पर कटोरी में सरसों का तेल भरके उसमें तांबें का एक सिक्का डालकर रखना भी शुभ माना जाता है.

भूलकर भी न करें खंडित मूर्तियों की पूजा, वरना चुकाना पड़ सकता है भारी नुकसान

6. यदि आप पर शनि का प्रकोप चल रहा है तो शुक्रवार की रात में 800 ग्राम तिल भिगो दें और शनिवार की सुबह ही उसे पीसकर उसमें गुड़ मिलाके 8 लड्डू बना लें. और उन लड्डुओं को काले घोड़े को खिलाएं. ऐसा करने से आपको शनि के दोषों से मुक्ति मिल जाएगी. 7. काली गाय की सेवा करने से शनि का दुष्प्रभाव दूर हो जाता है और हर रोज ऐसा करने से सदैव के लिए आप पर शनिदेव की कृपा बनी रहेगी. सबसे पहले काली गाय को पहली रोटी खिलाएं, उन्हें सिंदूर का तिलक लगाएं, सींग में कलावा या रक्षासूत्र बांधने के बाद उन्हें मोतीचूर का लड्डू खिलाएं. और इसके बाद उनका चरण स्पर्श करें.

सुबह जल्दी उठकर ये काम करने से घर में आएगी सुख-समृद्धि

8. इसके अलावा हर शनिवार को पीपल के वृक्ष की पूजा करनी चाहिए वट या पीपल के पेड़ पर जल या दूध चढ़ाएं. पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं. ऐसा करने से शनि प्रसन्न हो जाते हैं और आप पर उनकी कृपा सदैव रहती है. 9. बता दें कि शनिदेव को काली चीजें पसंद है. इसलिए शनिवार के दिन अपने हाथ के नाप का 29 हाथ का काला लंबा धागा लें और उसे मसलकर अपने गले में पहने. ऐसा करने से आप पर शनि का प्रभाव अच्छा होगा.

Solar Eclipse 2020: इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल और ग्रहण का समय

10. यदि आप पर शनि की साढ़ेसाती की बुरी दशा चल रही हो तो शनिवार के दिन शाम को पीपल के पेड़ में मीठा जल चढ़ाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाएं, शनिदेव की आरती करें, धूप और अगरबत्ती जलाएं और शनिदेव को काला तिल चढ़ाएं. उसके बाद वहीं बैठकर हनुमान, भैरव, शनि चालीसा का पाठ करें. पाठ करने के बाद पीपल के पेड़ की सात बार परिक्रमा करना शुभ माना जाता है.

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वालों के लिए खुशखबरी, एक हफ्ते में कर सकें भोलेनाथ के दर्शन

First published: 14 May 2020, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी