Home » धर्म » Solar Eclipse 2020: Know here 21 June Surya Grahan time and Sutak time
 

Solar Eclipse: इस दिन लगेगा साल का पहला सूर्य ग्रहण, ये होगा आपकी राशि पर असर

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2020, 15:42 IST

Surya Grahan 2020: इस साल का पहला सूर्य ग्रहण (First Solar Eclipse) 21 जून (21st June) को लगने जा रहा है. यह पूर्ण सूर्य ग्रहण (Full Solar Eclipse) होगा, जिसमें सूर्य चंद्रमा से पूरी तरह से ढक जाएगा. जिससे पृथ्वी (Earth) से सूर्य की सिर्फ बाहरी परत (Outer layer) ही नजर आएगी. यानी 21 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) में सूर्य किसी गोल छल्ले (Ring) या अंगूठी की तरह दिखाई देगा. ज्योतिषशास्त्रों के मुताबिक, ग्रहण का इंसान की जिंदगी पर गहरा प्रभाव पड़ता है. सूर्य ग्रहण हो या फिर चंद्र ग्रहण हर किसी के लिए शुभ फल देने वाले नहीं होते.

कुछ जातकों के लिए ये शुभ संकेत लेकर आता है, वहीं कुछ जातकों के लिए ग्रहण लगना अशुभ होने का प्रतीक बन जाता है. ज्यादातर मामलों में ग्रहण से राशियों पर बुरा प्रभाव पड़ता. बता दें कि इस इस साल के पहले सूर्य ग्रहण के दौरान सूर्य का करीब 94 फीसदी भाग चंद्रमा द्वारा ग्रस याना ग्रहण कर लिया जाएगा. और पूर्ण सूर्य ग्रहण होने की वजह से दिन में अंधेरा छा जाएगा. कोरोना काल में पड़ रहे इस सूर्य ग्रहण को कई मायनों में अलग तरीके से देखा जा रहा है.


5 जून को साल का दूसरा ग्रहण, इस राशि के लोगों पर पड़ने जा रहा ये प्रभाव

ये हैं सूर्य ग्रहण का समय-

21 जून को लगने वाला साल का पहला सूर्य ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर शुरु होगा. जो दोपहर बाद 3 बजकर 4 मिनट तक रहेगा. हालांकि आप इसे दोपहर में 12 बजकर 10 मिनट पर देख सकते हैं. साल के पहले सूर्य ग्रहण को उत्तर भारत के विभिन्न भागों में देखा जा सकेगा. इसके साथ ही इस सूर्य ग्रहण को अफ्रीका महाद्वीप के कई हिस्सों में देखा जा सकेगा.

चंद्र ग्रहण से पहले अस्त हुए शुक्र, इन राशियों पर पड़ेगा प्रतिकूल असर

यहां ये सूर्य ग्रहण सेंट्र्ल रिपब्लिक, कांगो और इथोपिया में देखा जा सकेगा. वहीं एशिया महाद्वीप में इसे पाकिस्तान के दक्षिणी हिस्से में साफ देखा जा सकेगा. साथ ही चीन में भी ये सूर्य ग्रहण नजर आएगा.

Chandra Grahan 2020: जानिए कब से कब तक रहेगा ग्रहण और क्या है सूतक का समय

कैसे लगता है सूर्य ग्रहण-

ग्रहण का लगना एक खगोलीय घटना है. सूर्य ग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाता है. जिससे सूर्य की रोशनी पृथ्वी पर नहीं आ पाती. और चंद्रमा की छाया पृथ्वी पर पड़ती है. इस खगोलीय घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है. इसी तरह चंद्र ग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है. इस अवस्था में सूर्य की रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती बल्कि पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ती है जिससे चंद्रमा पर अंधेरा छा जाता है. इस खगोलीय घटना को चंद्र ग्रहण का नाम दिया गया है.

Lunar Eclipse 2020: चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए करें ये काम, नहीं होगी कोई हानि

First published: 8 June 2020, 14:12 IST
 
अगली कहानी