Home » Rio Olympics 2016 » yogeshwar dutt wants to gold in rio
 

रियो की उम्मीदें: योगेश्वर से सोने की आस

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 7:54 IST
QUICK PILL
नाम- योगेश्वर दत्तखेल- कुश्तीउम्र- 33 साल

केडी जाधव और सुशील कुमार के अलावा योगेश्वर दत्त ओलंपिक में कुश्ती में पदक जीतने वाले केवल तीसरे खिलाड़ी हैं. 33 वर्षीय दत्त चौथी बार ओलंपिक में हिस्सा लेने जा रहे हैं. लंदन ओलंपिक 2012 में कांस्य पदक विजेता योगेश्वर रियो डि जनेरो में 65 किलोग्राम भार वर्ग में भाग लेंगे.

हरियाणा में जन्मे योगेश्वर दत्त भारतीय पहलवान सुशील कुमार के दोस्त हैं और उनके साथ ही प्रैक्टिस करते हैं. योगेश्वर पहले 60 किलोग्राम भार वर्ग में खेलते थे. लंदन ओलंपिक में उन्होंने इसी भारवर्ग में रेपेचेज प्ले ऑफ मुकाबले में उत्तर कोरिया के जांग म्यांग री को हराकर कांस्य पदक जीता था.

रियो की उम्मीदें: बिंद्रा से बीजिंग वाली सफलता दोहराने की आस

योगेश्वर ने आठ साल की उम्र से ही कुश्ती में हाथ आजमाना शुरू कर दिया था. उन्होंने बलराज पहलवान से प्रेरणा ली, जो कि हरियाणा में उन्हीं के गांव से संबंध रखते हैं. योगेश्वर ने अपने कोच रामफाल से कुश्ती की ट्रेनिंग ली और कुश्ती के दांव-पेच सीखे.

2012 में राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित दत्त ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहली बार 2003 में सुर्खियों में आए जब उन्होंने कॉमनवेल्थ कुश्ती चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता. इसके बाद दत्त एक के बाद एक खिताब अपने नाम करते चले गए.

रियो ओलंपिक: नंबरों के जरिए जानिए खेलों के महाकुंभ में भारत का इतिहास

2006 दोहा एशियाई खेलों में योगेश्वर ने कांस्य पदक जीता. 2014 में इंचियोन एशियाई खेलों में उन्होंने भारत की तरफ से इतिहास रचा. पिछले 28 सालों से भारत को कुश्ती में स्वर्ण पदक नहीं मिला था जो योगेश्वर ने दिलवाया. पिछले दो सालों से योगेश्वर ने 65 किलोग्राम भार वर्ग में खेलते हैं. इंचियोन में भी उन्होंने इसी भार वर्ग में सोने का तमगा हासिल किया.

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेल (2010) में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहलवान योगेश्वर ने ग्लासगो (2014) में भी स्वर्ण पदक जीता है. योगेश्वर फिलहाल फार्म में चल रहे हैं. पिछले साल उन्होंने इटली में आयोजित अंतराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता था.

रियो की उम्मीदें: लगातार सातवें ओलंपिक का हिस्सा होंगे लिएंडर पेस

योगेश्वर कुश्ती में भारत के सबसे महंगे खिलाड़ी हैं. पिछले साल प्रो कुश्ती लीग नीलामी में उन्होंने सबसे अधिक रकम हासिल की. सुशील कुमार के लिए 38.20 लाख रुपये की बोली लगी जबकि योगेश्वर ने 39.70 लाख रुपये की बोली हासिल की थी.

रियो में सुशील कुमार के भाग ना लेने चलते भारतीय फैंस को योगेश्वर से काफी उम्मीदें हैं. ये बात योगेश्वर खुद भी जानते हैं. उन्होंने खुद कहा है कि आगामी रियो खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर अपनी ओलंपिक यात्रा का अंत करना चाहते हैं. योगेश्वर का मुकाबला 21 अगस्त को होने वाला है और उन्होंने कहा कि वह अपने इस आखिरी मुकाबले को 'यादगार' बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

First published: 2 August 2016, 4:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी