Home » साइंस-टेक » 10 secrets of flight which cabin crew won't tell you
 

10 बातें जो विमान केेबिन क्रू नहीं बताते आपको

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 3 May 2016, 14:24 IST

शायद आपको लगता होगा कि आप हवाई यात्रा के बारे में सबकुुछ जानते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है. ऐसी तमाम बातें हैं जो अक्सर विमान यात्रा करने वाले यात्रियों को भी नहीं पता होतीं.

सवाल-जवाब की वेबसाइट क्वोरा (जहां पर लोग सवाल पूछते हैं और संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ जवाब देते हैं) के जरिये मिली जानकारी में विमानों के कर्मचारियों ने ऐसी जानकारियों का खुलासा किया है जो आपको कभी पता नहीं होतीं. 

पढ़ेंः टेक ऑफ और लैंडिंग के दौरान क्यों खुली रखनी पड़ती है विमान की खिड़की?

कैच ने इस संबंध में जानकारी जुटाई और आपको उनसे रूबरू कराते हैं जिन्हें जानकर आप भी चौंक ही जाएंगे.

Air India_File Photo

1. पायलट दूसरा खाना खाते हैं

जहां सभी यात्रियों को खाने की एक ही तरह की प्लेट लगाकर दी जाती है. वहीं, पायलट को अलग और विशेषरूप से बनाया गया भोजन दिया जाता है. पायलटों को विशेषरूप से तैयार दिए जाने वाले भोजन की वजह इसकी अतिरिक्त स्वच्छता होती है ताकि वे बीमार न पड़ जाएं.

2. ब्लैक बॉक्स नष्ट नहीं होता

जहां फिल्मों में दिखाया जाता है कि विमान दुर्घटना के बाद ब्लैक बॉक्स सही सलामत रहता है, हकीकत इससे उलट है. मानव निर्मित अन्य सामानों की ही तरह विमान का ब्लैक बॉक्स अत्यधिक दबाव और आग में नष्ट हो जाता है. 

पढ़ेंः क्या होगा अगर विमान में मोबाइल को फ्लाइट मोड पर नहीं रखा?

3. हाईजैक के लिए सीक्रेट कोड होता है

अगर हाईजैक होने के बाद विमान लैंड करता है तो पायलट विमान के विंग्स के फ्लैप (इनका इस्तेमाल लैंड करने के दौरान विमान की रफ्तार कम करने में किया जाता है) ऊपर की दिशा में छोड़ देते हैं. यह संकेत होता है कि कुछ गड़बड़ है.

4. अगर ऑक्सीजन मास्क नहीं पहना तो हो जाएगी मौत

Air India/wire/Dhiraj Singh/Bloomberg  via Getty Images

हालांकि यह सामान्य ज्ञान की बात है. लेकिन अगर ऊंचाई पर केबिन में ऑक्सीजन खत्म हो जाए और आप ने अपना ऑक्सीजन मास्क नहीं पहना तो आप 15 से 30 सेकेंड में ही मर जाएंगे. 

पढ़ेंः कार चलाते समय कभी न करें ये पांच गलतियां

5. विमान में पानी मत पीएं

अगर आपको सीधे बोतल से (बोतलबंद) पानी नहीं मिलता तो अच्छा रहेगा कि आप इसे न पीएं. क्योंकि विमान के सारे पानी को अच्छी तरह से केमिकल से ट्रीट किया जाता है ताकि कोई भी जीवाणु न मौजूद रहे. कॉफी और चाय के लिए भी यही नियम लागू होता है.

6. एयर ट्रैफिक कंट्रोल डिले (देरी) जैसा कुछ नहीं होता

ज्यादातर एयरपोर्टों में औसतन प्रति मिनट एक विमान टेक ऑफ या लैंड कर रहा होता है. इसका मतलब कि वहां लैंड करने वाले विमानों द्वारा अंतिम रूप से कहे जाने पर अक्सर स्थान की कमी नहीं होती.

7. हवाई यात्रा के बीच में विमान संभवतः क्रैश नहीं होता

किसी भी विमान के क्रैश होने की सर्वाधिक संभावना उसके टेक ऑफ या लैंडिंग के दौरान होती है. 

8. झटकों-हलचल से नहीं डरना चाहिए

सामान्यता बादलों के बीच ऊपर उठती हवा का तेज बहाव (अपड्राफ्ट) होता है. यह कुछ इस तरह होता है मानों करीब 800 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार के दौरान स्पीड ब्रेकर आ जाएं. इस दौरान होने वाले झटकों-हलचन से डरना-घबराना नहीं चाहिए.

पढ़ेंः जानिए किन दो कामों के लिए कार सीट में हेडरेस्ट लगा होता है?

9. इलेक्ट्रॉनिक्स का इस्तेमाल सही होता है

flight-attendant.jpg

अभी तक ऐसा कोई निर्णायक सबूत सामने नहीं आया है जिससे पता चले कि इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों का इस्तेमाल विमान को किसी तरह प्रभावित करता है. लेकिन हम आपको यह सलाह बिल्कुल नहीं देंगे कि आप ऐसा करें क्योंकि इससे विमान कर्मचारियों के साथ आपकी बेवजह तूतू-मैंमैं हो सकती है.

10. सीटबेल्ट साइन के बारे में स्टाफ भी भूल कर सकते हैं

कभी कभार बिल्कुल सही विमान यात्रा के दौरान भी पायलट सीटबेल्ट साइन (संकेत) को बंद करना भूल जाते हैं. यात्रियों को लगता है कि सीटबेल्ट पहने रहो कुछ खतरा है, लेकिन सामान्यता ऐसा नहीं होता. 

First published: 3 May 2016, 14:24 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी