Home » साइंस-टेक » 100 cities, 100 events: ISRO to celebrate Vikram Sarabhai’s birth centenary
 

15 अगस्त से पहले इसरो शुरू करेगा विक्रम साराभाई की जन्म-शताब्दी का जश्न

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2019, 10:39 IST

इस साल स्वतंत्रता दिवस से पहले देश के लगभग 100 शहरों में देश के जानमाने अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम सारभाई की जन्म शताब्दी पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) देशभर के 100 शहरों में 100 से अधिक कार्यक्रम आयोजित करेगा. इसरो ने घोषणा की है कि साल भर का जश्न 12 अगस्त से शुरू होगा.

यह अहमदाबाद से से शुरू होगा जहां साराभाई का जन्म 1919 में हुआ था. उन्होंने भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (PRL) की स्थापना का नेतृत्व भी किया था. इस उत्सव का समापन तिरुवनंतपुरम में ठीक एक साल बाद होगा, जहां उन्होंने भारत के पहले रॉकेट लॉन्चिंग स्टेशन की स्थापना की थी.

इस अवसर पर एक स्मारक सिक्के का भी अनावरण किया जाएगा. भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक साराभाई ने 15 अगस्त 1969 को परमाणु ऊर्जा विभाग के तहत भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. सोवियत संघ द्वारा अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियों में क्रांति करने के लगभग 12 साल बाद हुआ और अक्टूबर 1957 में दुनिया के पहले कृत्रिम उपग्रह स्पुतनिक -1 के सफल प्रक्षेपण के साथ इतिहास रचा गया.

इसकी स्थापना के तुरंत बाद इसरो ने साराभाई के सपने को पूरा करने के लिए एयर-बोर्न रिमोट सेंसिंग प्रयोगों के साथ शुरुआत की. विक्रम साराभाई की मृत्यु के चार साल बाद 1975 में इसरो ने सैटेलाइट इंस्ट्रक्शनल टेलीविज़न एक्सपेरिमेंट (SITE) किया. इन वर्षों में एजेंसी ने कई लैंडमार्क मिशन लॉन्च किए हैं. जिनमे अबतक का सबसे नवीनतम और अब तक का सबसे महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान -2 शामिल है. इसरो ने कई प्रदर्शनियों के जरिये विक्रम साराभाई की पूरी यात्रा को दिखाने की योजना बनाई है.

महिंद्रा की चेतावनी- बड़ी संख्या में जा सकती है नौकरियां, सरकार से मांगी मदद

First published: 8 August 2019, 16:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी