Home » साइंस-टेक » Android P Developer Preview: Next OS update of Google will focus on privacy & stops apps from spying on you
 

Android P: ऐप्स नहीं कर पाएंगे आपकी जासूसी, सुरक्षा होगी मजबूत

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 10 March 2018, 14:57 IST

इस सप्ताह की शुरुआत में Google ने अपने अगले मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम Android P के पहले डेवलपर प्रीव्यू को जारी किया. इस साल के अंत तक लॉन्च होने वाला यह ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर्स के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए तमाम नए फीचर्स के साथ ही iPhone X जैसे नॉच डिस्प्ले को सपोर्ट करता है. लेकिन इसके साथ ही Android P डेवलपर प्रीव्यू यह भी दिखाता है कि Google यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी पर अपना ज्यादा ध्यान दे रहा है.

नया ऑपरेटिंग सिस्टम Android P बिना यूजर की अनुमति के कैमरा और माइक्रोफोन का एक्सेस करने वाले चुनिंदा मोबाइल एप्लीकेशंस से जुड़ी समस्याओं का समाधान करेगा. उदाहरण के लिए जैसे Facebook के ऊपर हर यूजर की पसंद के आधार पर विज्ञापन जारी करने के लिए उनके माइक्रोफोन को एक्सेस करने का संदेह जताया गया था. हालांकि सोशल मीडिया दिग्गज कंपनी ने इस दावे को सिरे से खारिज कर दिया था.

हाल ही में एक खतरनाक मैलवेयर Skygofree पाया गया था जो एक साथ 48 कमांड चलाने की क्षमता रखता था, और इसमें बिना यूजर की जानकारी के फोन का माइक्रोफोन चालू करके उससे सुनना भी शामिल था.

लेकिन Google का आने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम Android P इस तरह की समस्याओं से निजात दिला देगा और बैकग्राउंड में चलने वाले ऐसे ऐप्स को डिसेबल कर देगा जो आपके स्मार्टफोन के कैमरा और माइक्रोफोन का इस्तेमाल करना चाहते हैं. Google ने हाल ही में अपने एंड्रॉयड ओपन सोर्स प्रोजेक्ट की नीतियों को अपडेट किया था ताकि वो विशेषरूप से इन पर पाबंदी लगा सकें.

Google ने यूजर की डिवाइस में बैकग्राउंड ऐप्स और जब डिवाइस का इस्तेमाल न हो रहा हो, तब कैमरा-माइक को एक्सेस करने वाले ऐप्स को सीमित कर दिया है और वो ऐसा नहीं कर सकेंगे. इन दोनों अपडेट्स को Google के लेटेस्ट Android P डेवलपर प्रीव्यू में भी जोड़ा गया है.

इस बाबत एक ब्लॉग पोस्ट में Google के इंजीनियरिंग उपाध्यक्ष डेव बुर्के ने लिखा, "निजता को बेहतर ढंग से सुनिश्चित करने के लिए Android P सभी idle (इस्तेमाल में न आने वाले) ऐप्स को माइक, कैमरा और सभी सेंसर मैनेजर को एक्सेस करने से रोक देगा. जब आपके ऐप्स की UID निष्क्रिय होगी, माइक खाली ऑडियो रिपोर्ट करेगा और सेंसर्स सभी घटनाओं की रिपोर्टिंग रोक देंगे. आपके ऐप्स द्वारा कैमरा का इस्तेमाल डिसकनेक्ट कर दिया जाएगा और अगर कोई ऐप उसे इस्तेमाल करना चाहता है तो एक एरर पैदा हो जाएगी. ज्यादातर मामलों में मौजूदा ऐप्स के सामने यह नई पाबंदियां नहीं लगेंगी, लेकिन हम अपेक्षा करते हैं कि अपने ऐप्स से इन रिक्वेस्ट को हटा दें."

First published: 10 March 2018, 14:57 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी