Home » साइंस-टेक » Android Pay: Google experimenting to make digital wallets hands-free
 

एंड्रॉयड पेः बस आपका चेहरा और मुस्कान कर देगा भुगतान

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 March 2016, 15:19 IST

गूगल ने घोषणा की है कि वो एक ऐसी तकनीकी पर काम कर रहा है जिसके जरिये लोग अपना स्मार्टफोन जेब से बाहर निकाले बिना अपने ई-वॉलेट से भुगतान कर सकेंगे.

एक ब्लॉग पोस्ट में गूगल के प्रोडक्ट मैनेजर पाली भट ने कहा कि इंटरनेट की दिग्गज कंपनी स्मार्टफोनों के जरिये हैंड्सफ्री एंड्रॉयड पेमेंट सिस्टम बनाने की दिशा में काम कर रही है. इसका वेरीफिकेशन फेसियल रिकॉगनिशन यानी चेहरे की पहचान से हो सकेगा.

भट कहते हैं, "कल्पना कीजिए कि आप अपना बटुआ लिए बिना ही ड्राइव थ्रू से निकल जाते हैं या बिना कैशियर को बिना पैसे या क्रेडिट कार्ड सौंपे बालपार्क से एक हॉट डॉग उठा लेते हैं. इस कल्पना ने हमें हैंड्स फ्री नाम के एक पायलट ऐप को निर्मित करने के लिए प्रोत्साहित किया और इसका शुरुआती चरण में इसका परीक्षण चल रहा है."

पढ़ेंः लैपटॉप-पीसी कीबोर्ड में 'Pause' और 'Break' बटन क्यों होते हैं

गूगल के मुताबिक, हैंड्स फ्री को एप्पल या एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफोनों के लिए उपलब्ध करा दिया गया और इसे सिलिकॉन वैली क्षेत्र के मैकडोनाल्ड और पापा जोंस जैसे कुछ सीमित संख्या में रेस्त्रां के लिए जारी कर दिया गया. 

Android Pay

हैंड्स फ्री का डिजिटल वॉलेट स्मार्टफोनों की लोकेशन सेंसिंग तकनीकी के जरिये ब्लूटूथ और वाईफाई कनेक्शन का इस्तेमाल करके यह बताता है कि क्या कोई नजदीक का स्टोर हैंड्स फ्री पेमेंट टेक्नोलॉजी को सपोर्ट करता है. 

भट कहते हैं, "जब आप भुगतान के लिए तैयार हों तो केवल कैशियर से कहें कि मैं गूगल के जरिये भुगतान करूंगा. कैशियर आपके इनीशियल्स पूछेगा और आपकी हैंड्स फ्री प्रोफाइल से जुड़ी तस्वीर देखकर आपकी पहचान सुनिश्चित करेगा."

कुछ स्थानों पर गूगल ने स्टोरों में कैमरे लगाकर यह भी परीक्षण किया है कि कैमरा हैंड्स फ्री से भुगतान करने वाले ग्राहकों की स्वतः ही पहचान करके ग्राहक को बिना कुछ पूछे भुगतान करने देगा. 

पढ़ेंः टेक ऑफ और लैंडिंग के दौरान क्यों खुली रखनी पड़ती है विमान की खिड़की?

गूगल के मुताबिक, "सितंबर में एंड्रॉयड पे को लॉन्च किए जाने के बाद से औसतन हर माह 15 लाख खातों को अमेरिका में जोड़ा जा रहा है और इसे  स्वीकार करनेे वाले स्थानों की संख्या 20 लाख तक पहुंच गई है."

भट कहते हैं, "हम एंड्रॉयड पे को ज्यादा देशों में लाने के साथ ही भारी तादाद में स्टोर्स और ऐप्स को इससे जोड़ने के काम में काफी व्यस्त हैं."

First published: 3 March 2016, 15:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी