Home » साइंस-टेक » Android users beware: 'Godless' malware secretly controlling you smartphone
 

एंड्रॉयड यूजर्स सावधान: 'गॉडलेस' मैलवेयर चुपचाप कर रहा स्मार्टफोन पर कब्जा

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 23 June 2016, 18:33 IST

एंड्रॉयड यूजर्स सावधान हो जाएं. एक नए तरह का मैलवेयर 'गॉडलेस' आया है जो ऐप के जरिये चुपचाप आपके स्मार्टफोन को रूट करके गुप्त ढंग से अनचाहे प्रोग्राम इंस्टॉल कर देता है. 

एक ब्लॉग पोस्ट में सुरक्षा संस्था ट्रेंड माइक्रो ने लिखा कि मैलवेयर 'गॉडलेस' को गूगल प्ले स्टोर में भी गुप्त रूप से छिपा पाया गया है और इसे एंड्रॉयड लॉलीपॉप 5.1 या इससे पहले के वर्जन को निशाना बनाते हुए पाया गया है. यह भी बता दें कि लॉलीपॉप या इससे पहले के स्मार्टफोन की संख्या तकरीबन 90 फीसदी है.

सावधानः दुनिया के 50 करोड़ एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर मंडरा रहा खतरा

यह मैलवेयर एक ऐप के अंदर छिपा होता है और यूजर के फोन के ऑपरेटिंग सिस्टम को रूट कर बर्बाद करने की कोशिश करता है. सीधे शब्दों में कहें तो यह स्मार्टफोन का एडमिन एक्सेस पा लेता है और अनाधिकारिक रूप से असुरक्षित ऐप्स को इंस्टॉल करता है.

कंपनी का कहना है कि एक बार इस मैलवेयर ने स्मार्टफोन की रूटिंग कर ली तो फिर इसे हटाना बहुत मुश्किल हो सकता है. यह भी बताया गया है कि गूगल प्ले पर तमाम ऐप में यह मैलेसियस कोड पाया गया है.

पढ़ेंः ये अनोखे ऐप बना देंगे आपके स्मार्टफोन को वाकई स्मार्ट

कंपनी अब तक इस मैलवेयर से प्रभावित 8 लाख 50 हजार डिवाइसों की जानकारी पा चुकी है. इनमें से करीब आधी संख्या भारत में मौजूद डिवाइसों की है जबकि बाकी साउथईस्ट एशियाई देशों की है. अमेरिका में इससे प्रभावित फोनों की संख्या दो फीसदी से भी कम है. 

कैसे करें बचाव

ट्रेंड माइक्रो ने कहा, "भले ही पॉपुलर गेम हो या यूटिलिटी टूल, किसी भी ऐप की डाउनलोडिंग करते वक्त डेवलपर का रिव्यू जरूर जांचें. बहुत कम या बिना किसी बैकग्राउंड वाले अंजान डेवलपर्स इन मैलेसियस ऐप्स के बड़े स्रोत हो सकते हैं."

कंपनी का मानना है कि सुरक्षा के लिए हमेशा विश्वसनीय स्टोर्स मसलन गूगल और अमेजॉन से ही ऐप्स को डाउनलोड करें. 

First published: 23 June 2016, 18:33 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी