Home » साइंस-टेक » Coronavirus : How and where is the COVID-19 vaccine being prepared?
 

Coronavirus: कैसे और कहां-कहां तैयार की जा रही है COVID-19 की वैक्सीन ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 March 2020, 12:12 IST

दुनियाभर में कोरोना वायरस के वैक्सीन को बनाने के लिए वैज्ञानिक हाथ-पांव मार रहे हैं. अमेरिका के सिएटल कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए क्लिनिकल ट्रायल शुरू हो गया है. यह ट्रायल 18 से 55 साल के 45 स्वस्थ लोगों पर किया जा रहा है. इससे पहले चीन से भी इस तरह की खबर सामने आयी थी. कोरोना वायरस से अबतक दुनियाभर में 11000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. अमेरिका में जिस टीके का परीक्षण किया जा रहा है, उसे mRNA (या मैसेंजर राइबोन्यूक्लिक एसिड) -1273 कहा जाता है और इसे नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ हेल्थ (NIH) में तैयार किया जा रहा है.

वायरस को रोकने के लिए वैक्सीन को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है. वैक्सीन एक ऐसा पदार्थ है जो रोग पैदा करने वाले एजेंट (जिसे रोगज़न भी कहा जाता है) से मिलता जुलता है लेकिन यह बीमारी का कारण नहीं बनता है. यह वायरस को पहचानने और इसे ख़त्म करने के लिए शरीर की इम्युनिटी को तैयार करता है.

पोलियो जैसी बीमारियां वैक्सीन से हुई ख़त्म 

पोलियो, इन्फ्लूएंजा, मेनिन्जाइटिस, टाइफाइड, टेटनस, डिप्थीरिया जैसी कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए टीके उपलब्ध हैं. चेचक और पोलियो जैसी घातक बीमारियों के उन्मूलन के लिए भी वैक्सीन जिम्मेदार रहे हैं.

COVID-19 के कई जगह वैक्सीन तैयार किये जा रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार COVID-19 के लिए 40 से अधिक संस्थाएं टीके विकसित कर रही हैं. इनमें चाइना (सिनोवैक) में एक इनएक्टिवेटेड वैक्सीन लगाया जा रहा है जिसमें फॉर्मल्डिहाइड का इस्तेमाल किया गया है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (पुणे) एक यू.एस. आधारित कंपनी कोडेजेनिक्स द्वारा वैक्सीन विकसित की जा रही है.

अधिकारी का दावा- भारत में COVID-19 के सामुदायिक संचरण को रोकने के लिए पर्याप्त टेस्ट नहीं हो रहे

First published: 22 March 2020, 12:12 IST
 
अगली कहानी