Home » साइंस-टेक » Corona Vaccine Human Trials: Human trials of India's first coronavirus vaccine in Delhi's AIIMS start today
 

Corona Vaccine Human Trials: दिल्ली के AIIMS में देश की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन का मानव परीक्षण आज से शुरू

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2020, 11:49 IST

Corona Vaccine Human Trials: भारत में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के बीच अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) एथिक्स कमेटी ने शनिवार को स्वदेशी COVID -19 वैक्सीन कोवाक्सिन (Covaxin) के ह्यूमन क्लिनिकल ट्रायल की मंजूरी दे दी है. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक अस्पताल आज से स्वस्थ व्यक्तियों का नामांकन शुरू करेगा. रिपोर्ट के अनुसार एम्स में सेंटर फॉर कम्युनिटी मेडिसिन के प्रोफेसर डॉ. संजय राय ने कहा "कुछ वॉलन्टियर्स ने पहले ही परीक्षण के लिए पंजीकरण कर लिया है. हम व्यक्तियों की जांच शुरू करेंगे और उन्हें टीका लगाने से पहले सोमवार से उनकी स्वास्थ्य स्थिति का मूल्यांकन करेंगे."

ट्रायल के लिए चुनी गई 12 साइटें

Covaxin के फेज- I और फेज -II ह्यूमन ट्रायल के लिए 12 साइटें चुनी गईं हैं. AIIMS- दिल्ली AIIMS ह्यूमन ट्रायल के लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा चयनित 12 साइटों में से एक है. फेज- I में वैक्सीन का परीक्षण 375 वॉलन्टियर्स पर किया जाएगा और उनमें से अधिकतम 100 एम्स के होंगे. एम्स दिल्ली में COVID -19 वैक्सीन कोवाक्सिन के क्लिनिकल ट्रायल के लिए वॉलन्टियर्स की आवश्यकता है. स्वस्थ वॉलन्टियर्स के लिए व्यक्ति का कोई COVID -19 इतिहास नहीं होना चाहिए. जिसकी आयु 18 वर्ष से अधिक और 55 वर्ष से कम वह परीक्षण में भाग लेने के लिए पात्र होंगे .


ट्रायल में भाग लेने के लिए कोई भी व्यक्ति [email protected] पर एक ईमेल भेज सकता है या 7428847499 पर कॉल या कॉल कर सकता है. संस्थान इन संपर्क विवरणों को अपनी वेबसाइट पर भी डाल सकता है. भारत की पहले स्वदेशी कोविड -19 वैक्सीन कैंडिडेट कोवाक्सिन को हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा ICMR और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) के सहयोग से विकसित किया जा रहा है. इस वैक्सीन परीक्षण अब तक एम्स, पटना और कुछ और साइटों में शुरू हो गए हैं. एम्स पटना बुधवार को ट्रायल शुरू करने वाला पहला संस्थान था और अब तक करीब नौ लोगों को टीका लगाया गया है.

Corona Virus Update: दुनियाभर में 6.08 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, भारत में संक्रमितों की संख्या 11 लाख के पार

भारत में DCGI ने अबतक दो वैक्सीन की अनुमति दी है. पहली भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने ICMR के सहयोग से विकसित की है और दूसरी, जो Zydas Cadila Healthcare Ltd द्वारा विकसित की जा रही है, को फेज- I और II ह्यूमन क्लिनिकल ट्रायल की अनुमति दी गई है.  स्वदेशी रूप से विकसित वैक्सीन उम्मीदवारों में से प्रत्येक के लिए लगभग 1,000 वॉलन्टियर्स अभ्यास में भाग लेंगे. भारत दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन उत्पादकों में से एक है.

शोध का दावा- वैक्सीन या उपचार नहीं खोजा गया तो 2021 तक भारत में रोजाना आ सकते हैं 2.87 लाख COVID-19 के मामले

First published: 20 July 2020, 8:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी