Home » साइंस-टेक » COVID-19 Vaccine: This Vaccine Saves 16 Monkeys, Now Trial Is Going On 30,000 Peoplae
 

COVID-19 Vaccine : इस वैक्सीन ने 16 बंदरों को बचाया, अब 30,000 लोगों पर हो रहा है ट्रायल

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 11:11 IST

Coronavirus Vaccine: COVID-19 के खिलाफ मॉर्डना इंक (Moderna Inc) की वैक्सीन ने ट्रायल में वायरस के खिलाफ जबरदस्त असर दिखाया है. इस वैक्सीन का इस्तेमाल 16 बंदरों पर किया गया था. वैक्सीन के इम्यून रेस्पॉन्स को देखते हुए इसे महामारी के खिलाफ सफलता के रूप में देखा जा रहा है. न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में मंगलवार को प्रकाशित निष्कर्षों में मॉर्डना इंक ने कहा कि वैक्सीन के दो इंजेक्शन वायरस को दो अलग-अलग स्तरों रोकते हैं. कहा गया है कि बंदरों में इसने बीमारी पैदा करने का कोई संकेत नहीं दिखाया, यह एक समस्या है जो कभी-कभी वैक्सीन से जुड़ी होती है. अगर इस तरह के परिणाम मनुष्यों में भी आते हैं, यह टीका वायरस को रोकने में सफल हो सकता है.

अध्ययन के परिणामों के अनुसार बंदरों में वैक्सीन के दो डोज का इस्तेमाल करने के दो दिन बाद उनकी नाक में कोई वायरल प्रतिकृति नहीं पायी गई. वायरस से चुनौती मिलने के बाद दोनों डोज में 7 में से 8 बंदरों के फेफड़ों के तरल पदार्थ में कोई वायरल प्रतिकृति नहीं देखी गई. इसका डेटा बेहद उत्साहजनक माना जा रहा है. अब इस परीक्षण को बड़े स्तर पर किया जा रहा है. इसके ह्यूमन ट्रायल में कम से कम 30,000 लोगों को शामिल किया गया है.


वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावकारिता का पता लगाने के लिए फेज-3 का परीक्षण नवंबर या दिसंबर अपना डेटा पेश करेगा. इस वैक्सीन में मेसेंजर आरएनए का उपयोग किया गया है, जो शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को हमला करने के लिए डिज़ाइन किए गए वायरस से आनुवंशिक सामग्री का सिंथेटिक रूप है. अमेरिकी सरकार इस वैक्सीन के विकास के लिए 955 मिलियन डॉलर दे रही है.

पुणे में सामने आया देश का पहला COVID-19 वर्टिकल ट्रांसमिशन, समझिए क्या है इसका मतलब

फाइनेंशियल टाइम्स टाइम्स के अनुसार मॉर्डना इंक अपने कोरोना वायरस वैक्सीन की कीमत 50 डॉलर से 60 डॉलर है, जो फाइजर इंक (Pfizer Inc) और बायोएनटेक (BioNTech) से कम से कम 11 डॉलर अधिक है.उद्योग विश्लेषकों का कहना है कि 50 मिलियन मरीजों को कवर करने के लिए फाइजर और बायोएनटेक की 2 बिलियन डॉलर की डील, जो एक अनुमानित उत्पाद पर निर्भर है, अन्य निर्माताओं पर भी इसी तरह की कीमतें तय करने का दबाव होगा.

आरआईए समाचार एजेंसी ने मंगलवार को बताया कि रूस ने देश की दूसरी संभावित कोविड 19 वैक्सीन के मानव परीक्षण शुरू कर दिए हैं, जिसमें 27 जुलाई को पांच वालंटियर को शामिल किया गया है. साइबेरिया में वेक्टर वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट द्वारा परीक्षण में अगले वालंटियर को 30 जुलाई को एक इंजेक्शन दिया जायेगा. 

Coronavirus: इजराइली टीम ऐसी खास तकनीक लेकर पहुंची भारत, जिसका निर्यात भी है बैन

First published: 29 July 2020, 11:00 IST
 
अगली कहानी