Home » साइंस-टेक » Database & information of more than 120 million Reliance Jio users leaked, called as biggest data breach in Indian history
 

Reliance Jio के सवा करोड़ यूजर्स का डाटा हुआ लीक, जानिए क्या करें?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2017, 19:14 IST

एक निजी वेबसाइट ने भारत में तेजी से ग्राहक जोड़ने वाली Reliance Jio के यूजर्स का डाटा लीक किया है. लीक हुए डाटा में यूजर्स के नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, सिम एक्टीवेशन तारीख और आधार नंबर जैसी संवेदनशील जानकारी भी शामिल है.

कहा जा रहा है कि देश के इतिहास में यह अब तक का डाटा में सेंधमारी की सबसे बड़ी घटना है क्योंकि इसमें 1 करोड़ 20 लाख से ज्यादा यूजर्स का डाटा लीक हुआ है. magicapk नाम की यह वेबसाइट यूं तो देखने में सामान्य सी नजर आती है और जैसे ही डाटा लीक होने की सूचना के बाद इस पर आने वाले यूजर्स की तादाद बढ़ी, यह हैंग जैसी हो गई.

यूजर्स कई बार प्रयास करने के बाद इस पर अपना नाम देख पाए. हालांकि अब तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि आखिर किसी वेबसाइट द्वारा क्यों Reliance Jio के यूजर्स का डाटा लीक किया गया.

 

वेबसाइट के रजिस्ट्रेशन से जुड़ी जानकारी देखने पर भी पता चला कि इस डोमेन का मालिक छिपा हुआ है और उसने खुद को प्राइवेट दिखाकर छिपा रखा है. वहीं, सामने आई जानकारी से पता चला है कि यह डाटा सबसे ज्यादा उन यूजर्स का है जिन्होंने प्रीव्यू ऑफर में रजिस्ट्रेशन करवाया था, क्योंकि हाल के नंबर इसमें नहीं नजर आ रहे थे. जबकि कुछ चुनिंदा जियो मोबाइल नंबर्स के आधार नंबर का भी पता नहीं चल सका.

वहीं, इस जानकारी के सामने आने के बाद Reliance Jio ने भी अपना स्पष्टीकरण पेश किया. Reliance Jio के आधिकारिक बयान के मुताबिक, "हमें एक वेबसाइट के असत्यापित और निराधार दावों की जानकारी मिली और हम इसकी जांच कर रहे हैं. प्रथम दृष्ट्या यह जानकारी (डाटा) अविश्वसनीय लग रहा है. हम अपने ग्राहकों को विश्वास दिलाना चाहते हैं कि उनका डाटा सुरक्षित है और इसे सबसे कड़ी सुरक्षा में रखा गया है. यह डाटा केवल सरकार की जरूरत पर ही उनसे साझा किया जाता है. हमनें कानूनी-सुरक्षा एजेंसियों को इन दावों के बारे में सूचित कर दिया है और देखेंगे कि कड़ी कार्रवाई की जाए."

जानिए क्या करें

  • अपनी निजी जानकारी कभी भी फोन पर किसी को भी न दें.
  • मोबाइल कनेक्शन लेते वक्त दिए जाने वाले पहचान पत्र पर क्रॉस लकीर खींचकर इसे केवल उस कंपनी के लिए ही है, लिखें.
  • आपकी जानकारी लीक हो गई है, यह खोजने के बजाय खुद को सुरक्षित रखने पर ध्यान दें.
  • मोबाइल कंपनियों, बैंकों आदि किसी को भी अपनी निजी जानकारी, क्रेडिट-डेबिट कार्ड पिन, ओटीपी आदि न बताएं.
  • अपने मोबाइल-ईमेल पर बैंकों की खाता संख्या, पिन-पासवर्ड आदि सेव न रखें.
  • उतने ही बैंक खाते-ईमेल आईडी-डेबिट-क्रेडिट कार्ड रखें, जिनके पासवर्ड दिमाग में याद रख सकते हों.
First published: 11 July 2017, 19:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी