Home » साइंस-टेक » WhatsApp will now share your number to facebook, Delhi High Court allows their new privacy policy
 

व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को हरी झंडी, जानिए डिलीट अकाउंट का क्या होगा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 September 2016, 16:03 IST

भारत में व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अहम खबर है. दिल्ली हाईकोर्ट ने व्हाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी (निजता नीति) पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. मामले की सुनवाई के दौरान दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि व्हाट्सऐप अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी के साथ आगे बढ़ सकता है.

दुनिया की सबसे बड़ी मैसेजिंग सेवा देने वाली व्हाट्सऐप ने चार साल में पहली बार अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव किया था. माना जा रहा था कि इससे लोगों की निजता में दखलंदाजी होगी.

व्हाट्सऐप ने हाल ही में ऐलान किया था कि अब कंपनी अपने यूजर्स का नंबर अपनी ओनर (मालिक) कंपनी यानी फेसबुक को उपलब्ध कराएगी. दो साल पहले ही सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने व्हाट्सऐप का अधिग्रहण 19 अरब डॉलर में किया था.

'डिलीट अकाउंट का डेटा नष्ट हो'

दिल्ली हाईकोर्ट ने मामले की सुनवाई के दौरान यह भी कहा कि व्हाट्सऐप डिलीट हो चुके अकाउंट के डेटा और जानकारी फेसबुक से साझा नहीं करेगा. अदालत ने कहा कि जिन यूजर्स के अकाउंट डिलीट हो चुके हैं, उनकी जानकारी और डेटा को नष्ट कर दिया जाए. 

सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने सरकार और ट्राई (भारतीय दूरसंचार नियामक अथॉरिटी) को निर्देश दिए कि वह व्हाट्सऐप जैसे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म को एक नियमित रूपरेखा या ढांचे में लाने की संभावना की जांच करे.

फेसबुक से शेयर होगा नंबर

फेसबुक ने 2014 में व्हाट्सऐप का अधिग्रहण कर लिया था. उसके बाद से उसने अपनी निजता नीति में पहली बार बदलाव किया है.

निजता अधिकार की वकालत करने वाले कार्यकर्ताओं ने इस बात पर चिंता जताई है कि फेसबुक डेटा के लिए व्हाट्सऐप उपयोक्ताओं के अकाउंट में ताक-झांक करेगी.

व्हाट्सऐप के एक अरब यूजर

हालांकि दोनों कंपनियों का कहना है कि व्हाट्सऐप एक अलग यानी स्वतंत्र कंपनी के रूप में परिचालन करेगी और उसके उपयोक्ताओं के डाटा, उनकी सहमति के बिना आपस में साझा नहीं किए जाएंगे.

व्हाट्सऐप के दुनिया भर में एक अरब से ज्यादा उपयोक्ता हैं, जिनमें से एक बड़ा हिस्सा भारत से आता है. व्हाट्सऐप के प्रवक्ता ने पिछले महीने कहा था कि कंपनी अपने उपयोक्ताओं के मोबाइल नंबर और डिवाइस यानी मोबाइल आदि की जानकारी फेसबुक के साथ साझा करेगी.

First published: 23 September 2016, 16:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी