Home » साइंस-टेक » Don't worry, clicking blocked or torrent website don't mean you will get penalised, it's not illegal
 

परेशान होने की जरूरत नहीं, ब्लॉक-टॉरेंट वेबसाइट खोलने पर नहीं होगा जेल-जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2016, 15:15 IST

बीते एक-दो दिन में अगर आप भी ब्लॉक्ड या टॉरेंट वेबसाइट देखने पर जेल या 3 लाख रुपये जुर्माने की सजा संबंधी खबर पढ़कर डरे हुए हैं, तो रिलैक्स हो जाएं. ऐसा कुछ भी नहीं हैं. कैच ने इस बारे में कई स्रोतों से जानकारी जुटाई और पाठकों को इसकी हकीकत से रूबरू करा रहा है.

दरअसल एक ताजा मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा बॉलीवुड की ढिशूम फिल्म के निर्माता की याचिका के बाद आदेश में कहा गया कि वेबसाइट को ब्लॉक किए जाने वाले मैसेज के स्थान पर इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (आईएसपी) को एक विशेष संदेश देना चाहिए. यह संदेश कॉपीराइट कानून के प्रावधानों, ऑर्डर और सूट नंबर के जिक्र के साथ दिखाया गया हो. ताकि यूजर्स को पेज ब्लॉक किए जाने का कारण पता चल सके.

एक्सक्लूसिवः जानिए रिलायंस जियो के बारे में सारी अंजानी बातें

इस आदेश के जवाब में टाटा कम्यूनिकेशंस लिमिटेड (टीसीएल) ने कहा कि तकनीकीतौर पर इस तरह का संदेश देना संभव नहीं हो सकेगा. इस पर कोर्ट ने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं लगता कि यह संभव नहीं है और बाकी सभी आईएसपी को छोड़कर केवल टाटा को ही यह दिक्कत क्यों है.

इसके बाद टाटा द्वारा यह बात मान ली गई और आदेश के चौथे बिंदु में इसका उल्लेख किया गया. पर टाटा द्वारा दिखाए गए संदेश ने सारी गफलत पैदा कर दी. आदेश का पांचवां बिंदु केवल टाटा के लिए ही है. यही संदेश अन्य आईएसपी द्वारा नहीं दिखाया गया और टाटा द्वारा दिखाए जाने के बाद लोगों में भ्रम फैल गया.

आपके हर ईशारे को बखूबी समझती है यह स्मार्ट शर्ट 

अब बात सजा की. अगर टाटा द्वारा दिखाए गए संदेश को भी मान लें तो यह साफ जाहिर है कि यह चेतावनी उनके लिए दी गई है जो कॉपीराइट सामग्री को गैर-कानूनी रूप से देखते हैं और यह सही भी है और यह नियम पहले से भी चलता आ रहा है.

एक यूजर सिर्फ किसी ऐसे यूआरएल को खोले जहां पर पाइरेटेड सामग्री मौजूद है, तो उसे सजा नहीं होगी. यानी ब्लॉक्ड या टॉरेंट वेबसाइट को खोलने में कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन अगर कोई यूजर पाइरेटेड सामग्री (मसलन फिल्म, वीडियो, गेम, गाना, टीवी सिरीज आदि) डाउनलोड करता है, देखता है, इसको रीराइट करता है, अपलोड करता है, डिस्ट्रीब्यूट करता है तो उसे सजा हो सकती है. 

जीमेल हुआ और सुरक्षितः खतरनाक लिंक होने पर देगा चेतावनी

लेकिन कॉपीराइट एक्ट और पाइरेसी से जुड़ा यह कानून पहले से ही मौजूद है और इस संबंध में कोई नया आदेश या धारा नहीं बनाई गई है.

बता दें कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखना पूरी तरह से गैरकानूनी है इसलिए ऐसी किसी भी वेबसाइट पर जाना निश्चित रूप से ही आपको कानूनी उलझन में डाल सकता है.

First published: 23 August 2016, 15:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी