Home » साइंस-टेक » Every Headphone is not safe for your ears know which one is a safer
 

अगर ईयरफोन लेते वक्त इन बातों पर नहीं करते हैं गौर तो हो सकते हैं बहरे

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2018, 11:40 IST

आज के दौर में स्‍मार्टफोन की तरह ईयरफोन भी हर किसी के डेली लाइफ से जुड़ गया है. दरअसल हेडफोन ने हमारे लाइफ में इतने भीतर तक जगह बना ली है कि हम कही बाहर घूमने जाए या टहलने जाए हेडफोेेन लेना नहीं भूलते हैं. लेकिन दुनिया भर के रिसर्चस में जो एक बात लगातार सामने आ रही है वो काफी चिंतनीय है.

दुनिया भर के रिसर्च में यह बात निकलर सामने आयी है कि इंसान के ज्यादा हेडफोन के इस्तेमाल से उसके सुनने की क्षमता पर असर पड़ता है, जो आगे चलकर बहरेपन की वजह भी बनता है. तो अगर आप इन समस्याओं से बचना चाहते हैं तो इसका भी उपाय है.

हम आपको कुछ ऐसी छोटी-छोटी सावधानियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप बहरेपन के शिकार होने से बच सकते हैं. अगर आप मार्केट से कोई नया ईयरफोन खरीद रहे हैं तो इन सावधानियों को जरूर बरतें.

डेसिबल को चेक करें

आप जो हेडफोन खरीद रहे उसके डेसीबल को चेक करें. क्यों कि हमारे कानों के लिए 85 डेसिबल या उससे नीचे की आवाज सेफ होती है. ऐसे में इस बात का ध्यान रखें कि जो ईयरफोन आप यूज कर रहे हैं या बाजार से लेने जा रहे हैं वो इसी रेंज की हो. 

नॉइस रेसिस्टेबल हो

इसके अलावा आपका ईयर या हेडफोन नॉइस रेसिस्टेबल हो इस बात का भी खासा ध्यान रखना पड़ेगा. नॉइस रेसिस्टेबल होने का मतलब है हेडफोन लगाने के बाद बाहर का शोर आपके कानों में प्रवेश नहीं कर रहा हो. अगर बिना म्‍यूजिक चलाए ईयर या हेडफोन पहने हुए आपको बाहर की कोई आवाज नहीं सुनाई पड़ रही है तो समझिए आपका ईयर फोन बेहतर है. अगर ऐसा नहीं है तो आप उस ईयर फोन को खरीद कर बेहरेपन को दावत दे रहे हैं. 

First published: 10 June 2018, 11:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी