Home » साइंस-टेक » Facebook security flaw allow users to get millions of fake likes, claims researchers
 

सावधानः नकली Likes के लिए खतरे में आपका Facebook अकाउंट!

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 September 2017, 19:42 IST

दुनिया के सबसे प्रमुख सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म Facebook के भीतर एक बड़ी सुरक्षा खामी सामने आई है. इस सुरक्षा खामी के चलते Collusion-networks में जाने से Facebook के हजारों असली और नकली यूजर अकाउंट्स से लाखों की संख्या में 'Fake Likes' (नकली) और कमेंट्स हो जाते हैं. एक ताजा शोध में यह दावा किया गया है.

यह शोध अमेरिका की ईओवा यूनिवर्सिटी और पाकिस्तान की लाहौर यूनिवर्सिटी ऑफ मैनेजमेंट साइंस के शोधकर्ताओं ने पूरी की. सीबीएस न्यूज ने इस सप्ताह जारी समाचार मेें बताया कि शोधकर्ताओं ने पाया है कि दर्जनों ऐसी वेबसाइटें हैं जो इस तरह के कथित Collusion networks को संचालित करती हैं और यह बेहद तेजी से यूजर्स के मुफ्त 'Likes' जनरेट करती हैं.

जब शोधकर्ताओं ने इसके लिए सबसे टॉप के 50 नेटवर्क्स को ही जांचा-परखा, तब उन्हें पता चला कि संभव है कि तमाम अन्य नेटवर्क्स भी मौजूद हो सकते हैं.

 

शोध में शामिल होने के लिए प्रतिभागियों को नेटवर्क्स पर अपने अकाउंट्स का एक्सेस देना था, जिससे यूजर्स के अकाउंट्स से 'likes' किया जा सके.

नेटवर्क को धोखा देने वाले कोड का नाम OAuth है जो Spotify, iMovie और Playstation जैसे नेटवर्क को कहीं से भी कुछ घंटों से लेकर महीनों तक के लिए यूजर्स का फेसबुक एक्सेस करने का मौका देता है.

लेकिन शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि यह धोखा न केवल अतिरिक्त 'likes' पाने बल्कि तमाम अन्य गैरकानूनी काम करने के लिए भी दिया जा सकता है.

शोधकर्ताओं के मुताबिक, "अकाउंट में एक्सेस की छूट से हैकर्स न केवल यूजर्स की 'likes-comments' के जरिये प्रतिष्ठा बढ़ाने या घटाने बल्कि अकाउंट्स से अन्य गंभीर छेड़छाड़ भी कर सकते हैं. जैसे, हैकर्स Collusion नेटवर्क में मौजूद सदस्यों की निजी जानकारी चुरा सकते हैं या ऐसा ही कुछ अन्य काम भी कर सकते हैं."

 

सीबीएस न्यूज को शोधकर्ताओं ने बताया कि उन्होंने 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान Collusion Networks पर नजर रखी थी, लेकिन यह नहीं कह सकते हैं कि क्या यह नेटवर्क्स उम्मीदवारों की पोस्ट को बढ़ाकर फायदा पहुंचाने या नुकसान करने का भी काम कर सकते हैं.

शोध के सह लेखक और ईओवा यूनिवर्सिटी के जुबैर शाफिक कहते हैं, "हम इस संबंध में रूस से जुड़े सवाल की जांच करना चाहते हैं."

हालांकि Facebook के मुताबिक Collusion Networks को ब्लॉक किया जा चुका है. Facebook के प्रवक्ता के मुताबिक, "हमनें इस शोध में बताई गई गतिविधि का समाधान ढूंढ़ लिया है और अब यह हमारे प्लेटफॉर्म पर मौजूद नहीं है."

First published: 10 September 2017, 19:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी