Home » साइंस-टेक » Facebook suicide prevention tool will help & support it's users
 

खुदकुशी करने से यूजर्स को रोकेगा फेसबुक

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

अमेरिका के बाद अब दिग्गज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक ने अपने सुइसाइड प्रीवेंशन टूल को यूनाइटेड किंगडम में भी जारी कर दिया है. समैरिटंस के सहयोग से विकसित किया गया यह टूल सुइसाइडल यूजर्स (आत्मघाती) को सलाह देने के साथ ही उनके मित्रों से जोड़कर उन्हें प्रशिक्षित सहायता टीम से मदद दिलाएगा.

फेसबुक ने इसके लिए दुनिया भर में कई टीमें गठित की हैं जो उनके पास आने वाली रिपोर्टों को देखती है. इनमें से वे सबसे ज्यादा गंभीर रिपोर्टों पर सबसे पहले कार्रवाई करते हैं, जैसे खुद को चोट पहुंचाना और जो परेशानी या समस्याग्रस्त हैं उनतक मदद और संसाधन पहुंचाना.

facebook suicide prevention.png

गौरतलब है कि यह टूल बीते वर्ष फरवरी में अमेरिका में लॉन्च किया गया था. 2011 में लागू किए गए एक रिपोर्टिंग फीचर पर आधारित यह टूल अमेरिका की नेशनल सुइसाइड प्रीवेंशन लाइफलाइन और यूके के समैरिटंस को इसे मिलने वाली रिपोर्टें भेजता है.

पढ़ेंः बच्चों के खेलने की चीज नहीं हैं ये खूबसूरत जानलेवा खिलौने

फेसबुक के रॉब बॉयले के मुताबिक, "आपको सुरक्षित रखना फेसबुक में हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी है." कंपनी के मुताबिक इन अपडेट्स को लेकर यह मेंटल हेल्थ ऑर्गनाइजेशंस फोरफ्रंट, नाउ मैटर्स नाउ, द नेशनल सुइसाइड प्रीवेंशन लाइफलाइन, सेव डॉट ओआरजी समेत कई संस्थाओं के साथ काम कर चुकी है. साथ ही आत्मघाती, आत्महत्या या खुद को चोट पहुंचाने वाले लोगों के साथ भी सलाह-मशविरा कर चुकी है.

फेसबुक के मुताबिक, "इन संगठनों से बात कर हमें जो एक सबसे जरूरी बात पता चली वो यह थी कि जब कोई व्यक्ति परेशानी में हो तो जो उसकी परवाह करते हैं उनसे संपर्क करवा दिया जाए."

अगर फेसबुक की टीम किसी यूजर की प्रोफाइल में आत्महत्या के लक्षण देखती है तो यह तुरंत नजदीकी टीम से स्थानीय आपातकालीन सेवाओं से संपर्क करने के लिए कहती है. 

पढ़ेंः फेसबुकः लाइक बटन से दिखेंगे 6 रिएक्शन, क्यों पड़ी इसकी जरूरत

कंपनी के मुताबिक, "जिस किसी ने भी पोस्ट को फ्लैग किया होता है उसे नए संसाधन और सहायता मुहैया कराई जा रही है." इनमें अपने दुखी-परेशान मित्र को कॉल या संदेश देने का विकल्प होता है. ताकि उस परेशान शख्स को पता चले कि उसकी परवाह करने वाले या उस तक पहुंचने वाले खास लोग अभी भी मौजूद हैं.

इसके अलावा उसके किसी अन्य मित्र तक या किसी सुइसाइड हॉटलाइन तक प्रशिक्षित प्रोफेशनल की सहायता लेना होता है.

First published: 20 February 2016, 2:37 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियोंं-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी