Home » साइंस-टेक » Freedom651: Drones will diliver it in 2026
 

फ्रीडम651: 10 साल बाद ड्रोन से होगी डिलीवरी :)

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST
QUICK PILL
जुगाड़ के लिए मशहूर हिंदुस्तान में ह्यूमर भी लाजवाब मिलता है. बीती 18 फरवरी को दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन देश में बिकना शुरू हुआ औऱ लगे हाथ कंपनी की वेबसाइट क्रैश हो गई. ढाई सौ रुपए में मोबाइल की इच्छा रखने वाले उपभोक्ताओं को तो दिक्कत हुई ही साथ ही कंपनी की दिक्कतें भी बढ़ गईं. सरकार-पुलिस-मोबाइल कंपनियां-सांसद-आयकर समेत न जाने कितने लोगों ने रिंगिग बेल्स नाम की इस कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया.कंपनी जब इन मोर्चों पर लड़ाई लड़ रही थी तब डिजिटल मीडिया पर कुछ करामाती लोगों ने एक नई लड़ाई छेड़ दी. फ्रीडम251 वेबसाइट की एक हूबहू नकल फ्रीडम651 नाम की वेबसाइट इस समय चर्चा में हैं. इस वेबसाइट के जरिए फ्रीडम251 के एक एख फीचर की जमकर खिल्ली उड़ाई गई है, लेकिन बेहद रचनात्मक तरीकेे से.

फ्रीडम651 डॉट कॉम का कहना है कि हमारी कंपनी डजेंट रिंग अ बेल प्रा. लि. अभी स्थापित होनी है जो कि भारत की सबसे तेज विकसित होने वाली स्मार्टफोन कंपनी बनेगी. हम ऐसे स्मार्टफोन डिजाइन और प्रोड्यूस करेंगे जो यूजर्स को मोबाइल इस्तेमाल का संतोषजनक अनुभव दें. ताकि उनका जरूरी वक्त उनके मनपसंद कामों में खर्च हो न कि यह खोजने में कि फोन का इस्तेमाल कैसे किया जाए. 

Freedom 651.jpg

वेबसाइट निर्माता ने नीचे लिखा भी है कि यह जाहिर है यह एक पैरोडी साइट है. हमारा स्मार्टफोन बनाने या इसके लिए किसी तरह के कोई स्मार्ट मूव का इरादा नहीं है. जैसा की आप देख सकते हैं कि हम इस साइट पर किसी की भी क्रेडिट-विजिटिंग कार्ड डिटेल नहीं मांग रहे हैं.

10 साल में मिलेगा फ्रीडम651

यूं तो फ्रीडम651 डॉट कॉम वेबसाइट एक मजाक के रूप में बनाई गई है. लेकिन इसे डिजाइन फ्रीडम251 की ही तरह किया गया है. इस वेबसाइट के बाई नाऊ ऑप्शन पर क्लिक करने पर योर कार्ट दिखने लगता है.

इसमें फ्रीडम 651 आइटम की 1 क्वांटिटी का शिपिंग चार्ज 40 रुपये दिया गया है और कुल योग 691 रुपये पहुंच जाता है. लेकिन इसमें डिलीवरी डिटेल के नीचे शिपिंग और फिर डिलिवर्ड इन 10 इयर्स लिखा है. यानी आप आर्डर अभी करते हैं और डिलीवरी 10 साल बाद दी जाएगी. जैसे फ्रीडम251 ने पैसे अभी तो और डिलीवरी चार महीने बाद की बात कही है.

Freedom 651.jpg

इतना ही नहीं शिपिंग एड्रेस की जानकारी के आगे भी लिखा गया है कि केवल वही पता भरें जहां आप 10 साल बाद होंगे. आगे खाली कॉलम में नाम के बाद पता (जिसमें लिखा है कि पता मंगल ग्रह का भी हो सकता है), स्टेट, सिटी, पिनकोड, ईमेल आईडी के बाद मोबाइल नंबर में लिखा है कि यहा पर कोई भी बड़ा प्राइम नंबर दे सकते हैं.

इसके बाद सबमिट की जगह साफ लिखा हुआ है कि ऑर्डर नाऊ एंड फॉरगेट यानी ऑर्डर दो और भूल जाओ.

ड्रोन से होगी डिलीवरी

वहीं, वेबसाइट के पहले पेज पर जहां फ्रीडम651 का फोटो बना है और मोबाइल का नाम लिखा है उसके नीचे एक्सपीरियंस द न्यू फ्रीडम लिख दिया गया है. दाम के नीचे डोन्ट बाइ नाऊ (अभी मत खरीदें) का बटन है. 

जबकि इसके नीचे साफ लिखा हुआ है कि सभी डिलीवरी 30 जून 2026 के बाद ड्रोन के जरिये की जाएंगी. 

मोबाइल की खासियतें

Freedom 651.jpg

मोबाइल की पहली खासियत फ्रीडम टू फ्लांट में लिखा गया है कि क्योंकि 2025 तक इंसान की मंगल ग्रह में पहुंचने की संभावना है. इसलिए जैसे ही लोग वहां पहुंचेंगे हमें इस फोन को बनाने के लिए सभी मैटेरियल मिल जाएंगे. मंगल पर पहुंचने के लिए हमनें शिवकासी के स्टैंडर्ड फायरवर्क्स से संपर्क कर दो करोड़ रॉकेट का ऑर्डर दे दिया है. इन रॉकेटों को जब हम एक साथ जोड़ देंगे तो यह इंसानों को मंगल ग्रह पर ले जाने में सक्षम होंगे. यही कारण है कि फिलहाल हम बुकिंग के नाम पर पैसे ले रहे हैं. 

  • फोटोग्राफी के लिए आपको इस हैंडसेट में टचलेस तकनीकी मिलती है. आपको केवल मुझे सेल्फी लेनी है बोलना होगा और कंपनी का प्रतिनिधि आकर आपकी फोटो ले लेगा.
  • फ्रीडम टू एक्सप्लोर के अंतर्गत आपके पास 2026 तक खूब मौका है. इस दौरान आप जहां चाहे बेफिक्र होकर घूम सकते हैं. 
  • वारंटी एक साल की काटी गई है और इसके सर्विस सेंटर भारत में नहीं केवल मंगल ग्रह पर मिलेंगे.
  • फिर भी अगर आपको कोई परेशानी होती है तो कंपनी के कस्टमर केयर (ग्राहक सेवा) नंबर 0420-420420, 4200420 पर भी संपर्क किया जा सकता है. 

First published: 21 February 2016, 9:01 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियोंं-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी