Home » साइंस-टेक » Gone in 60 seconds: became truth when a team of hackers compromised Google Pixel smartphone
 

60 सेकेंड से भी कम वक्त में गूगल पिक्सल स्मार्टफोन हुआ हैक

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 November 2016, 16:11 IST

एंड्रॉयड के नवीनतम ऑपरेटिंग सिस्टम नूगा 7.0 से लैस गूगल का पहला और नया फ्लैगशिप स्मार्टफोन पिक्सल भले ही कई सारे फीचर्स से लैस हो, लेकिन सुरक्षा के मामले में तो यह दुनिया के दिग्गज फोनों के सामने कहीं नहीं ठहरता. बताया जा रहा है कि चीन में हैकर्स की एक टीम ने 60 सेकेंड से भी कम वक्त में इस फोन को कथितरूप से हैक कर लिया.

सियोल में आयोजित एक सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस में व्हाइट-हैट हैकर्स के एक समूह (क्वीहू 360) ने इसका प्रदर्शन करते हुए दिखाया कि कैसे एक रिमोट कोड को पिक्सल में एग्जीक्यूट करके इसे हैक किया जा सकता है. 

जानिए 7 कारण क्यों नहीं खरीदना चाहिए गूगल पिक्सल फोन

कथितरूप से उन्होंने गूगल के इस नए फोन की सुरक्षा में सेंध लगाने के लिए दिन भर का भी वक्त नहीं लिया और दूर से ही पिक्सल में कोड इंस्टॉल कर दिया. गूगल पिक्सल को हैक करने का कारनामा करने वाली क्वीहू 360 टीम को यह प्रदर्शन करने पर 1 लाख 20 हजार डॉलर की इनामी राशि भी दी गई.

इन हैकर्स ने यह भी दिखाया कि गूगल पिक्सल फोन को हैक करने के बाद वे कॉन्टैक्ट्स, फोटो, मैसेज, फोन कॉल्स समेत पूरे फोन के डाटा से छेड़छाड़ कर सकते हैं. 

गूगल की मेहनत बनी हकीकत, लॉन्च किए पिक्सल और पिक्सल एक्सएल स्मार्टफोन

खबरों की मानें तो गूगल पिक्सल फोन को हैक करने के लिए इस टीम ने अपने कोड के जरिये फोन पर गूगल प्ले स्टोर खोला और फिर गूगल क्रोम के मोबाइल वर्जन को, जिसके बाद 'अल्फा 360 टीम के कब्जे में' लिखा नजर आने लगा.

दुर्भाग्यवश यह दूसरा ऐसा मौका है जब गूगल के इस हैंडसेट को रिमोट कोड के जरिये हैक किए जाने के खतरे को प्रदर्शित किया गया. 

5 उम्मीदें जिन पर खरा नहीं उतरा गूगल पिक्सल

इससे पहले एक रिपोर्ट में दिखाया गया था कि वास्तव में एंड्रॉयड के पिछले ऑपरेटिंग सिस्टम्स की तुलना में नूगा 7.0 के एन्क्रिप्शन पासवर्ड में आसानी से सेंध लगाई जा सकती है. अब गूगल इन दोनों मामलों के चलते एक नया सिक्योरिटी पैच बनाने की दिशा में काम कर रहा है.

ध्यान रखें

यह किसी स्मार्टफोन के ऑपरेटिंग सिस्टम से छेड़छाड़ कर उसपर कब्जा जमाने की कोई नई घटना नहीं है. हालांकि तकनीकी की दिग्गज कंपनी गूगल के फोन में सेंध इसे बड़ी बात बनाता है.

इसलिए भले ही आपके पास कोई सामान्य या प्रीमियम स्मार्टफोन हो, बेहतरी और भलाई इसी में है कि हमेशा अपने फोन और ऐप्स को अपडेट करते रहें. ताकि पुराने वर्जन किसी कमी के चलते आप हैकर्स के निशाने पर न आएं.

First published: 13 November 2016, 16:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी