Home » साइंस-टेक » Google announced Android Auto release in 18 countries including India
 

गूगल ने की घोषणा, भारत में जल्द ही एंड्रॉयड ऑटो सेवा

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2016, 18:43 IST

ऑटोमोबाइल और गैजेट्स प्रेमियों के लिए एक अच्छी खबर है. जल्द ही भारत में एंड्रॉयड ऑटो आने वाला है. गूगल ने घोषणा की है कि अब दुनिया भर के 18 मुल्कों में एंड्रॉयड ऑटो की सुविधा दी जाएगी.

बीते काफी वक्त से अमेरिका में एंड्रॉयड ऑटो का इस्तेमाल हो रहा है. अमेरिका में इसकी सफलता देखने के बाद गूगल द्वारा इसे तीसरी दुनिया के मुल्कों में भी जारी करने की घोषणा कर दी गई है. 

पढ़ेंः क्या होगा अगर उड़ते विमान में मोबाइल फोन को फ्लाइट मोड पर नहीं रखा?

इसका मतलब कि अब भारत समेत 18 मुल्क भी कार इंफोटेनमेंट सिस्टम के जरिये अपने स्मार्टफोन के तमाम ऐप को संचालित कर सकेंगे. गूगल द्वारा एंड्रॉयड ऑटो को अंर्जेंटीना, ऑस्ट्रिया, बोलीविया, ब्राजील, चिली, कोलंबिया, कोस्टा रिका, डोमिनिकन रिपब्लिक, इक्वेडोर, ग्वाटेमाला, भारत, पनामा, पैरागुए, पेरू, प्यूर्टो रिको, रूस, स्विटजरलैंड, उरुग्वे और वेनेजुएला में मुहैया कराई जा रही है.

इन 18 मुल्कों के अलावा अन्य देशों में भी जल्द ही गूगल की ऑटोमोबाइल एंड्रॉयड सेवा मिलेगी. एंड्रॉयड ऑटो की अमेरिका में लॉन्चिंग के साथ ही इन 18 देशों को इससे जोड़ने का सिलसिला शुरू कर दिया गया था.

android auto.jpg

हालांकि जैसा बताया जा रहा है यह पूरी तरह से सभी ऑटोमोबाइल प्रेमियों के काम का नहीं है. क्योंकि इन देशों में इसकी उपब्धता का यह मतलब कतई नहीं है कि यह हर कार में इस्तेमाल किया जा सकेगा.

पढ़ेंः भूलकर भी मत धोएं अपनी जींसः Levi's सीईओ

इन देशों के ऑटोमोबाइल निर्माताओं को भी एंड्रॉयड ऑटो के इस्तेमाल के लिए अपनी कारों में नई तकनीकी को लाना होगा या फिर कई बदलाव करने होंगे. दुनिया के प्रमुख ऑटोमोबाइल निर्माता या कार मेकर्स अपनी कुछ चुनिंदा कारों में एंड्रॉयड ऑटो के लिए सुविधा दे रहे हैं. 

पहले जहां बताया जा रहा था कि फिएट और क्रिसलर की कारें ही एंड्रॉयड ऑटो की सेवा प्रदान करेंगी. वहीं अब पता चला है कि जिन भी कारों को फोर्ड सिंक के साथ एसेंबल किया जाता है वो एंड्रॉयड ऑटो या एप्पल कारप्ले की सुविधा दे सकती हैं. 

पढ़ेंः कार चलाते समय कभी न करें ये पांच गलतियां

लेकिन अब कुछ विवाद भी जुड़ गए हैं. पोर्शे एंड्रॉयड ऑटो को दरकिनार करते हुए अपनी नई कार 911 में केवल एप्पल कारप्ले को ही सपोर्ट करने पर फोकस कर रहा है. 

दूसरी ओर हॉन्डा नई सिविक कार में एंड्रॉयड ऑटो का सपोर्ट दे रही है जबकि फॉक्सवैगन कारों में इसकी सुविधा के लिए डीलर्स के पास प्रक्रिया चल रही है. 

पढ़ेंः जानिए मौत के बाद भी कैसे जिंदा रह सकते हैं आप

नया एंड्रॉयड ऑटो दुनिया के तीन सबसे तेजी से उठते कार बाजारों मसलन ब्राजील, भारत और रूस में कार के ऑपरेटिंग सिस्टम को एक्सेस करने की सुविधा देगा. गौरतलब है कि एंड्रॉयड ऑटो को अमेरिका में 2014  में लॉन्च किया गया था. 

क्या है एंड्रॉयड ऑटो

Android Auto Apps.jpg

  • यह ऑटोमोबाइल का एक इंफोटेनमेंट सिस्टम है.
  • यह आपके एंड्रॉयड आधारित स्मार्टफोन को कार के सिस्टम से जोड़ देता है.
  • इसके जरिये आप कार के डैशबोर्ड से ही स्मार्टफोन के ऐप्स और कई फंक्शंस का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • यह आपको बगैर अपने स्मार्टफोन की ओर देखे डैशबोर्ड पर लगी स्क्रीन के जरिये ही सभी अपडेट्स दिखाता है.
  • इसके जरिये आप मैप्स, म्यूजिक कंट्रोल, फोन कॉल, मैसेज का आदान प्रदान जैसे काम आसानी से कर सकते हैं.
  • इतना ही नहीं कई ऐप जैसे पैंडोरा, स्काइपी, स्पॉटिफाई आदि को भी आप बिना अपना फोन छुए इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • एक तरह से यह आपको अपने फोन की रिमोट एक्सेस की सुविधा देता है. 
  • इसके लिए आपके स्मार्टफोन में एंड्रॉयड का लॉलीपॉप से इससे ऊंचा वर्जन होना चाहिए.
  • जैसे ही आप अपने फोन को एंड्रॉयड ऑटो से जोड़ेंगे तो यह आपको डैशबोर्ड पर लगे टैबलेटनुमा म्यूजिक सिस्टम की स्क्रीन पर सभी एप्लीकेशंस दिखाने लगेगा.
पढ़ेंः जानिए एसी और कार साथ-साथ चलाने का सबसे किफायती तरीका

First published: 9 April 2016, 18:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी