Home » साइंस-टेक » Govt will soon introduce Aadhaar number linked biometric payment system that will use fingerprints to verify identity, no need of ATM/Credit Card & Paytm or E-wallet
 

न एटीएम और न पेटीएम, सेफ पेमेंट के लिए दिखाएं 'ठेंगा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 December 2016, 17:53 IST

नोटबंदी के बाद कैशलेस ट्रांजैक्शंस के लिए सरकार एक से एक नए तरीके खोजने में जुटी हुई है. अब सरकार ने एक नया तरीका खोजा है जिसमें बिना एटीएम-पेटीएम, केवल 'ठेंगा' दिखाकर पेमेंट करने की तैयारी है.

यूं तो करेंसी के साथ-साथ प्लास्टिक मनी के रूप में एटीएम/डेबिट/क्रेडिट कार्ड का चलन काफी पहले से हो रहा है. इस दशक में स्मार्टफोन के बढ़ते चलन ने डिजिटल पेमेंट के जरिये के रूप में इसे भी मान्यता दे दी और ई-वॉलेट के रूप में लोगों को नया पेमेंट गेटवे मिल गया. 

एक अमेजिंग डिपार्टमेंटल स्टोरः जो चाहो उठाओ और बिना पेमेंट किए निकल जाओ

इस साल सरकार ने यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) भी जारी कर दिया जिसके जरिये मोबाइल फोन से ही पेमेंट-लेनदेन किया जा सके. लेकिन अब सरकार इसके आगे बिना प्लास्टिक मनी और स्मार्टफोन वाले यूजर्स के लिए भी एक नया पेमेंट मीडियम लाने वाली है.

सरकार की इस नई शुरुआत का नाम आधार पेमेंट हैं यानी आधार कार्ड का नंबर बताकर बायोमैट्रिक सत्यापन करके पेमेंट कर देना. यह अनोखा तरीका खरीदारी के बाद अपना आधार नंबर बताकर केवल अंगूठा लगाने भर से पेमेंट पूरा कर देगा.

लगातार बदलता रहेगा क्रेडिट-डेबिट कार्ड का सिक्योरिटी कोड, रोकेगा फ्रॉड

सरकार ने इसके लिए टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) से करार किया है. सरकार इस पेमेंट मीडियम की शुरुआत पेट्रोल पंपों से करेगी. यानी टीसीएस इन पेट्रोल पंपो को एक ऐसी तकनीक बनाकर देगी, जिससे पेट्रोल-डीजल-सीएनजी भरवाने के बाद पेमेंट के लिए ग्राहक को कार्ड या ई-वॉलेट से पेमेंट नहीं करना पड़ेगा, बल्कि अपना आधार नंबर बताने के बाद इसके सत्यापन के लिए अंगूठा लगाना होगा. अंगूठा लगाने के बाद ग्रीन लाइट जलते ही पेमेंट पूरा होने का मैसेज मिल जाएगा. 

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक टीसीएस ने पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय को इसके लिए हां कर दी है और आने वाले कुछ दिनों में यह सेवा शुरू की जा सकती है. 

कैसे होगा पेमेंट

दरअसल इसके लिए जरूरी है कि आपका बैंक अकाउंट आपके आधार नंबर से लिंक हो. पेट्रोल पंप पर जब आप पेमेंट के लिए कहेंगे तो वहां मौजूद मशीन में आपके द्वारा बताया गया आधार नंबर फीड किया जाएगा. इसके बाद आपसे उस मशीन में बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन कंफर्म करने के लिए अंगूठा लगाने के लिए कहा जाएगा. यह मशीन सीधे आधार कार्ड सर्वर से जुड़ी होगी, जिसमें अंगूठा लगाते ही यह आपके फिंगरप्रिंट के नंबर से संबंधित है वेरिफाई हो जाएगा. वेरिफाई होते ही पेमेंट बैंक अकाउंट से कट जाएगा.

सबसे ज्यादा सुरक्षित होगा यह तरीका

अगर सरकार की यह स्कीम सफल साबित होती है तो आने वाले वक्त में इसे पेमेंट का सबसे बेहतरीन और सुरक्षित जरिया माना जाएगा. क्योंकि प्लास्टिक मनी और ई-वॉलेट से पेमेंट किए जाने पर धोखाधड़ी की संभावना बनी रहती है, लेकिन आधार से जुड़ा बायोमैट्रिक वेरिफिकेशन इसे सुरक्षित बना देता है.

First published: 16 December 2016, 17:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी