Home » साइंस-टेक » Here is the Samsung's counter to iPhone X's notch, check it out
 

iPhone X को Samsung ने दिया कुछ ऐसा जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2018, 16:31 IST

बीते साल की शुरुआत से स्मार्टफोन निर्माताओं का प्रमुख फोकस कम से कम किनारों वाले (बेजल-लेस या नैरो-बेजल) डिस्प्ले में लग गया. इस कड़ी में दक्षिण कोरियाई दिग्गज स्मार्टफोन निर्माता Samsung ने बाजी मारते हुए 2017 के अपने फ्लैगशिप Galaxy S8 और Galaxy Note 8 में बिल्कुल महीन किनारे और ज्यादा से ज्यादा डिस्प्ले स्क्रीन दी.

इसके बाद Apple ने 2017 के अंत में अपने फ्लैगशिप स्मार्टफोन iPhone X को भी इससे मिलते-जुलते नैरो-बेजल डिस्प्ले के साथ लाकर चुनौती दी. हालांकि Apple के इस फोन को तकनीकी विशेषज्ञों द्वारा बहुत पसंद नहीं किया गया क्योंकि उसने डिस्प्ले एरिया के अंदर ही कई जरूरी चीजें दे दीं और डिजाइन के लिहाज से इसे वो स्थान नहीं मिल सका.

लेकिन अब लगता है कि Samsung के पास इस परेशानी का हल है. हाल ही में Samsung के एक सामने आए पेटेंट में दिखा कि कैसे वो स्मार्टफोन में फुलस्क्रीन डिस्प्ले को लाने का प्रयास कर रहा है. Samsung के इस नए ढंग से डिस्प्ले लगाने के तरीके में सभी सेंसर्स को डिस्प्ले के नीचे कर दिया गया है और इससे यूजर्स को फुलस्क्रीन डिस्प्ले का अनुभव मिल सकेगा.

Twitter

इस पेटेंट में पता चलता है कि Samsung के स्मार्टफोन में अंडर-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर (vivo की तरह) लगा होगा, जो होम बटन हटाने का काम करेगा. इसके अलावा फ्रंट कैमरा, प्रॉक्सिमिटी सेंसर और ईयरपीस जैसे सभी सेंसर्स और डिस्प्ले में ही लगे होंगे.

Samsung ने प्रेशर-सेंसटिव डिस्प्ले की जरूरत की भी बात कही है, जो आजकल आने वाले Apple iPhones में पाई जा रही है. पेटेंट के मुताबिक इस फोन के किनारे नहीं होंगे और इसके चलते यह फोन पूरी तरह 100 फीसदी स्क्रीन टू बॉडी रेशियो यानी फुलस्क्रीन डिस्प्ले देने में सक्षम होगा.

गौरतलब है कि पहले भी तमाम कंपनियों द्वारा ऐसे कई पेटेंट फाइल किए गए हैं जो भविष्य की शानदार तकनीक की झलक दिखाते हैं, लेकिन ज्यादातर स्मार्टफोन के निर्माण में इस्तेमाल किए जाते नजर नहीं आए हैं. हालांकि Samsung के फोल्डेबल स्मार्टफोन जिसे Galaxy X भी कहा जा रहा है, को लेकर उम्मीद जताई जा रही है कि वो संभवता इस साल के अंत तक या अगले साल की शुरुआत में आ सकता है.

फोल्डिंग स्मार्टफोन में फुलस्क्रीन डिस्प्ले काफी अच्छा कदम साबित हो सकता है क्योंकि इससे ज्यादा से ज्यादा मेटल एरिया का इस्तेमाल होगा और फोन का सरफेस एरिया बढ़ जाएगा.

First published: 11 February 2018, 16:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी