Home » साइंस-टेक » High school passed Vipin made a sensor helmet to prevent electricity shock
 

बिजली का करंट लगने से नहीं होगी अब किसी की मौत, 10वीं पास ने बनाया ऐसा उपकरण

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2019, 13:11 IST

जरूरतें सदियों से नए आविष्कार को जन्म देती आई हैं. जब इंसान को जिस चीज की जरूरत पड़ी, तब उसने अपनी सुविधा के लिए किसी ना किसी उपकरण को बनाने में महारत हासिल कर ली. अब कानपुर के रहने वाले एक शख्स ने एक ऐसे हेलमेट का निर्माण किया है जो आपको बिजली का करंट लगने से बचाएगा.

इस हेलमेट का निर्माण कानपुर विद्युत आपूर्ति कंपनी में संविदा कर्मी की के तौर पर तैनात विपिन कुमार ने किया है. ये हेलमेट किसी को भी बिजली का करंट लगने से बचाएगा. यही नहीं ये हेलमेट पोल और लाइन में प्रवाहित करंट की जानकारी भी दस से बीस फीट पहले ही दे देगा. ये हेलमेट केस्को के अधिशासी अभियंता के समक्ष किए गए परीक्षण में भी खरा उतरा है. अब विपिन ने इसे पेटेंट कराने के लिए आवेदन किया है.

कानपुर के संजय गांधी नगर में रहने वाले विपिन ने केवल दसवीं तक पढ़ाई की है. अब वह लाइन हेल्पर के रूप में काम करते हैं. विपिन के एक साथी की मौत लाइन पर काम करते हुए करंट से हो गई. शटडाउन के बाद भी इस लाइन पर करंट आ रहा था, जिसका पता नहीं चल पाया और उनका साथी मारा गया. विपिन बताते हैं कि पिछले कुछ सालों में कई साथी फाल्ट ठीक करते हुए करंट लगने से हमें छोड़ गए. हादसे इसलिए हुए क्योंकि वह अनजाने में करंट युक्त पोल पर चढ़ गए. विभाग के पास ऐसा कोई सुगम तरीका नहीं है, जिससे पोल पर चढ़ने से पहले पता कर सकें कि करंट प्रवाहित हो रहा है या नहीं.

पढ़ाई बंद करने के बाद विपिन ने इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण बनाना सीखा. वह वायरिंग करते हैं.. वायरिंग के दौरान छत पर होल करते समय लेंटर में पड़ी सरिया परेशानी पैदा करती थी, इसलिए एक ही काम को कई बार करना पड़ता था. पहले विपिन ने लेंटर में सरिया का पता लगाने के लए सेंसर युक्त मेटल डिटेक्टर बनाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. करीब तीन महीने पहले सेंसर मेटल डिटेक्टर में हलचल हुई. तब पता चला कि सेंसर करंट की लोकेशन बता रहा है. जिससे उन्हें प्रेरणा मिली फिर सेंसर युक्त हेलमेट बना दिया.

बता दें कि इस हेलमेट का सेंसर घरेलू लाइन के करंट को एक फुट, एलटी यानी 11 केवी लाइन के करंट को 12 फीट और एचटी यानी 33 केवी लाइन करंट को बीस फीट पहले बता देगा. करंट से इसकी रेड लाइट जल जाएगी और सेंसर आवाज करने लगेगा. विपिन कहते हैं, अभी करंट पता करने के लिए विशेष रॉड आता है, जिसे तारों के पास ले जाना पड़ता है. इसके लिए पोल पर चढ़ना पड़ता है लेकिन ये हेलमेट जमीन पर ही करंट का पता बता देगा.

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के गढ़ में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, भारी मात्रा में गोला बारूद और हथियार बरामद

First published: 28 June 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी