Home » साइंस-टेक » Home ministry rejects Google Street View plans to cover India
 

गृह मंत्रालय ने नहीं दी गूगल स्ट्रीट व्यू को इजाजत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2016, 7:46 IST

भारत सरकार ने गूगल की सेवा स्ट्रीट व्यू को इजाजत नहीं दी है. यानी अब गूगल स्ट्रीट व्यू ऐप के जरिये देश के शहरों, पर्यटन स्थलों, पहाड़ों, नदियों आदि के 360 डिग्री दृश्य, पैनोरमिक और गलियों तक की तस्वीरें नहीं दिख सकेगा.

गृह मंत्रालय ने गूगल से कहा कि गूगल स्ट्रीट व्यू के जरिये भारत को कवर करने की योजना को रद्द किया जाता है.

वर्ष 2008 में 26/11 मुंबई हमलों को देखते हुए सुरक्षा संगठनों ने चिंता जताई थी कि इस तरह की तस्वीरें खींचने वाली योजना से यह संभावना बढ़ जाएगी कि पाकिस्तानी-अमेरिकी डेविड कोलमैन हेडली जैसा कोई शख्स इनके आधार पर अपने ठिकाने चुन सके.

मानें या नहीं: गूगल अगर चाहे तो एक मिनट में आपका कच्चा-चिट्ठा सामने रख देगा

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि इस इनकार के पीछे की वजह सुरक्षा एजेंसियों और सैनिक बलों द्वारा किया गया विस्तृत आकलन है, जिसके तहत लगता है कि गूगल को भारत को कवर करने की अनुमति देने से देश की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है.

गृह राज्य मंत्री किरन रिजीजू ने कहा कि एक बार जियोस्पेशियल इंफॉर्मेशन रेगुलेशन बिल 2016 अस्तित्व में आ जाए तो इंटरनेट आधारित एप्लीकेशंस के मुद्दों को सुलझाया जा सकता है.

इंटरनेट दिग्गज गूगल भारत के अधिकांश हिस्से को स्ट्रीट व्यू के जरिये कवर करना चाहता है. यह देश के तमाम हिस्सों की 360 डिग्री तस्वीरें खींचकर इसे ऑनलाइन पोस्ट कर देगा.

गूगल कैमरा ऐप से क्लिक कर जानें तस्वीर से जुड़ी हर बात

गौर फरमाने वाली बात है कि भारत में गूगल स्ट्रीट व्यू जैसी वोनोबो सेवा पहले ही चल रही है

जहां अमेरिका, कनाडा समेत तमाम यूरोपीय मुल्कों में यह सेवा व्यापक पैमाने पर इस्तेमाल की जा रही है, शुरुआती चरण में भारत के कुछ हिस्सों में इसकी अनुमति दी गई थी.

इसके बाद गूगल ने परीक्षण के तौर पर ताज महल, लाल किला, कुतुब मीनार, वाराणसी के घाट, नालंदा यूनिवर्सिटी, मैसूर पैलेस, तंजावुर मंदिर के स्ट्रीट व्यू को लॉन्च किया था. 

गौरतलब है कि 2007 में लॉन्च गूगल स्ट्रीट व्यू को गूगल मैप्स और गूगल अर्थ के जरिये इस्तेमाल कर दुनिया के तमाम देशों के प्रमुख स्थानों और सड़कों तक की विस्तृत वीडियो देखी जा सकती हैं. 

पढ़ेंः स्मार्टफोन पर व्हॉट्सऐप-फेसबुक का इस्तेमाल भी बढ़ा रहा ग्लोबल वार्मिंग

हालांकि यहां गौर करने वाली बात यह है कि भारत में वोनोबो नाम की एक ऑनलाइन सेवा है जो गूगल स्ट्रीट व्यू की ही तरह देश के तमाम हिस्सों की गलियों तक की तस्वीरें दिखाती है. इसके जरिये आप जहां जाना चाहते हैं वहां की तस्वीरें पहले ही मोबाइल, टैबलेट, स्मार्टफोन, डेस्कटॉप पर देख सकते हैं.

First published: 10 June 2016, 7:46 IST
 
अगली कहानी