Home » साइंस-टेक » How much change your WhatsApp in 2018, some features you might not even know
 

2018 में कितना बदला आपका WhatsApp, कुछ फीचर्स जिनका शायद आपको अब भी पता न हो

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 December 2018, 11:05 IST

220 मिलियन से अधिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं के साथ व्हाट्सएप भारत में सबसे अधिक उपयोग होने वाले एप्लिकेशन में से एक है, जिसका उपयोग न केवल टेक्स्ट मैसेज भेजने केलिए नहीं किया जाता है. बल्कि वॉयस और वीडियो कॉलिंग, कॉन्फ्रेंसिंग और यहां तक कि लेनदेन भी किया जाता है.

हालांकि 2018 इस इंस्टैंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के लिए एक कठिन वर्ष रहा है क्योंकि यह फेक न्यूज़ और गलत सूचनाओं के प्रसार के लिए जांच के दायरे में आ गया. फिर भी साल 2018 में हमने इस एप्लिकेशन पर नई सुविधाओं को देखा जो चैटिंग अनुभव को बेहतर बनाते हैं. ये उनमे से कुछ इस तरह हैं.

WhatsApp स्टिकर

इस साल WhatsApp की सबसे बड़ा फीचर स्टिकर रहा जो Google पर सबसे अधिक खोजे जाने वालों में से एक था. जबकि यह जो करता है वह बहुत सरल है. अन्य इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफ़ॉर्म में यह सुविधा काफी समय से है, लेकिन व्हाट्सएप ने इसे हाल ही में अक्टूबर में ही उपलब्ध कराया था. आप इमोजी मेनू में इमोजी और जीआईएफ आइकन के ठीक बगल में एक आइकन में व्हाट्सएप स्टिकर पा सकते हैं.

आप WhatsApp के ब्लॉग पर मौजूद का गाइड का उपयोग करके अपने खुद के WhatsApp स्टिकर भी बना सकते हैं. इसके लिए एडोब फोटोशॉप और बेसिक इमेज एडिटिंग के साथ कुछ अनुभव की आवश्यकता हो सकती है. स्टिकर के लिए ठीक 512x512 पिक्सेल का रिज़ॉल्यूशन होना चाहिए और फ़ाइल का आकार 100kb से कम होना चाहिए.

 

WhatsApp डेटा संग्रह

साल २०१८ में कई प्रमुख टेक कंपनियों के लिए डेटा प्राइवेसी बड़ा मुद्दा रहा. खासतौर से तब जब यह बहस चल पड़ी कि यूजर्स की सहमति के बिना डेटा का इस्तेमाल किया जा रहा है. WhatsApp ने उपयोगकर्ताओं को उस सारे डेटा को डाउनलोड करने की सुविधा प्रदान की है. जो प्लेटफॉर्म ने उन पर एकत्र किए हैं. आप व्हाट्सएप द्वारा एकत्रित डेटा को सेटिंग> अकाउंट> रिक्वेस्ट अकाउंट इन्फो पर जाकर देख सकते हैं. फिर आपको एक पृष्ठ पर पुनः निर्देशित किया जाएगा जहां आपको अनुरोध रिपोर्ट पर क्लिक करना होगा.

व्हाट्सएप ग्रुप कॉलिंग

व्हाट्सएप कॉलिंग को लगभग दो साल हो गए हैं, लेकिन इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप ने हाल ही में अपने यूजर्स के लिए व्हाट्सएप वीडियो और वॉयस ग्रुप कॉलिंग फीचर लॉन्च किया है. इस फीचर की मदद से यूजर्स चार लोगों से कॉन्फ्रेंस कॉल कर सकते हैं. व्हाट्सएप ने हाल ही में एक बटन भी पेश किया है जो उपयोगकर्ताओं को कॉन्फ्रेंस कॉल करने देता है.

WhatsApp UPI पेमेंट

साल 2018 में UPI पेमेंट भी इस एप्लिकेशन के लिए महत्वपूर्ण फीचर्स रहा. इस फीचर ने पहली बार फरवरी में बीटा बनाने का काम किया और तब से वहीं अटका हुआ है. अंतिम बिल्ड वाले व्हाट्सएप उपयोगकर्ता वर्तमान में फीचर का उपयोग कर लोगों द्वारा भेजे गए निमंत्रण के माध्यम से इसका स्वाद प्राप्त कर सकते हैं. चूंकि इसे भारतीय रिज़र्व बैंक से आधिकारिक स्वीकृति नहीं मिली है, इसलिए व्हाट्सएप ने इस सुविधा को बीटा और निमंत्रण के लिए प्रतिबंधित कर दिया है. व्यक्तिगत रूप से यह बेहद सुविधाजनक लगता है क्योंकि चैट ऐप पर भुगतान इंटरफ़ेस के लिए किसी अन्य ऐप को इंस्टॉल करने की आवश्यकता नहीं होती है. पहली बार उपयोगकर्ताओं के लिए भी पंजीकरण प्रक्रिया बहुत सीधी है.

Picture-in-Picture

जब आप व्हाट्सएप पर किसी के द्वारा भेजे गए वीडियो लिंक पर क्लिक करते हैं, तो सिस्टम तुरंत संबंधित एप्लिकेशन को खोलने के लिए ट्रिगर करता है. PiP फीचर के साथ आप वीडियो को चैट विंडो पर देख सकते हैं, जिससे आपको रीसेंट बटन पर कई टैप की बचत होगी. यह फीचर फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब और टम्बलर जैसे थर्ड-पार्टी वीडियो ऐप के साथ काम करता है.

फॉरवार्डिंग प्रतिबंध

व्हाट्सएप इस साल फर्जी समाचार और गलत सूचना से संबंधित कई घटनाओं के लिए सरकार के रडार में था. जिसके बाद व्हाट्सएप ने संदेश अग्रेषण पर प्रतिबंध लगा दिया जैसे कि त्वरित फ़ॉरवर्ड बटन को हटाना जो मीडिया संदेशों के ठीक बगल में मौजूद था.

 

इसके अलावा इसने आपके या अन्य उपयोगकर्ताओं द्वारा अग्रेषित प्रत्येक संदेश के सामने एक अग्रेषित लेबल भी जोड़ा. हालांकि यह एक गंभीर कार्रवाई की तरह लगता है, फिर भी यह देखा जाना चाहिए है कि इन सुविधाओं ने गलत सूचना और नकली समाचारों के प्रसार को रोकने के लिए कितना प्रभाव डाला है.

कोई नहीं चाहता कि उनकी छवि गैलरी अच्छी सुबह के संदेशों से भरी हो. व्हाट्सएप ने इस व्यवहार को एक ऐसी सुविधा के रूप में पेश किया, जो उपयोगकर्ताओं को यह परिभाषित करने देता है कि कौन सी मीडिया उनके मीडिया लाइब्रेरी में दिखाई देती है.

ये  भी पढ़ें : GST : 01 जनवरी से सस्ते हो जाएंगे ये रोजमर्रा के सामान, मोदी सरकार ने दी साल की सबसे बड़ी सौगात

First published: 23 December 2018, 11:02 IST
 
अगली कहानी