Home » साइंस-टेक » India: Puts fifth navigation satellite IRNSS-1E
 

भारत ने आईआरएनएसएस-1ई का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2016, 14:56 IST

इसरो ने आज अपने पांचवें दिशासूचक उपग्रह आईआरएनएसएस-1ई का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया. इस सफल प्रक्षेपण के बाद भारत ने जीपीएस जैसी दिशासूचक प्रणाली  की ओर अपना कदम बढ़ा दिया है. इसरो ने इस प्रक्षेपण को अपने विश्वसनीय ‘पीएसएलवी: सी31 के माध्यम से किया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक ‘पीएसएलवी: सी31’  ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सुबह 9 बजकर 31 मिनट पर उड़ान भरी और फिर 19 मिनट 20 सेकेंड के बाद इसने उपग्रह को कक्षा में स्थापित कर दिया.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इसरो को बधाई देते हुए कहा कि , ‘‘इसरो टीम को इस सफल प्रक्षेपण पर हार्दिक बधाई.’’

प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर कहा, ‘‘पीएसएलवी सी31 के सफल प्रक्षेपण और आईआरएनएसएस-1ई को सटीकता के साथ कक्षा में स्थापित किए जाने के अवसर पर इसरो को उत्साह और दृढ़ संकल्प के लिए बधाई.’’

आईआरएनएसएस-1ई अंतरिक्ष प्रणाली का पांचवा दिशासूचक उपग्रह है. इस तरह के  कुल सात उपग्रह हैं और इन सभी के प्रक्षेपण के बाद यह प्रणाली जीपीएस के समान हो जाएगी.

इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार ने टीम को बधाई देते हुए  कहा, ‘आज इस नए साल में हम भारतीय दिशासूचक उपग्रह के पांचवे प्रक्षेपण के साथ शुरूआत कर रहे हैं. यह सात उपग्रहों के समूह में से पांचवा उपग्रह है. इस उपग्रह को प्रक्षेपित करके हमारे देश के भीतर हम प्रतिदिन 24 घंटे किसी की भौगोलिक स्थिति से जुड़ी सटीक जानकारी हासिल कर सकेंगे'.

इस मिशन के निदेशक बी जयकुमार ने इस सफलता पर कहा, ‘आईआरएनएसएस-1ई को बेहद सटीक ढंग से तय कक्षा में प्रवेश करवा दिया गया है. हमने इस उपग्रह को कक्षा में प्रक्षेपित करने के लिए सबसे ताकतवर यान को लगाया’.

First published: 20 January 2016, 14:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी