Home » साइंस-टेक » ISRO successfully launched GSAT-18
 

इसरो ने संचार उपग्रह जीसैट 18 का फ्रेंच गुयाना से किया सफल प्रक्षेपण

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 October 2016, 13:11 IST
(इसरो)

संचार उपग्रह के क्षेत्र में भारत को आज उस समय एक बड़ी सफलता मिली, जब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने नवीनतम संचार उपग्रह जीसैट 18 का फ्रेंच गुयाना में कोउरू के अंतरिक्ष केंद्र से एरियनस्पेस रॉकेट के जरिए सफल प्रक्षेपण किया.

यह प्रक्षेपण पहले कल किया जाना था लेकिन कोउरू में मौसम खराब होने के कारण इसे 24 घंटे के लिए टाल दिया गया था. कोउरू दक्षिणी अमेरिका के पूर्वोत्तर तट स्थित एक फ्रांसीसी क्षेत्र है.

इसरो के इस सफल अभियान को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के अंतरिक्ष कार्यक्रम का दूसरा ‘मील का पत्थर’ बताते हुए संबंधित वैज्ञानिकों को बधाई दी.

इसरो द्वारा निर्मित जीसैट- 18 इसरो के 14 संचालित उपग्रहों के बेड़े को मजबूत कर भारत के लिए दूरसंचार सेवाएं प्रदान करेगा.

आज मौसम साफ होने के साथ ही एरियन-5 वीए-231 भारतीय समयानुसार तड़के करीब दो बजे रवाना हुआ और जीसैट-18 को लगभग 32 मिनट की उड़ान के बाद कक्षा में भेज दिया.

बेंगलूरू में मुख्यालय रखने वाले इसरो ने मिशन के बाद घोषणा की, ”जीसैट-18 को फ्रेंच गुयाना के कोउरू से एरियन-5 वीए-231 के जरिए सफलतापूर्वक प्रक्षेपित कर दिया गया .”

जीसैट-18 यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा प्रक्षेपित किया जाने वाला इसरो का 20वां उपग्रह है और एरियनस्पेस प्रक्षेपक के लिए यह 280वां मिशन है.

अपने भारी उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए एरियन-5 रॉकेट पर निर्भर इसरो इस उद्देश्य के लिए जीएसएलवी एमके-3 विकसित कर रहा है.

प्रक्षेपण के समय 3,404 किलोग्राम वजन रखने वाला जीसैट-18 नॉर्मल सी बैंड, अपर एक्सटेंडेड सी बैंड और केयू बैंडों में सेवा प्रदान करने के लिए 48 संचार ट्रांसपोंडर लेकर गया है.

First published: 6 October 2016, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी