Home » साइंस-टेक » ISRO World Record: 104 satellites launched single rocket PSLVC37
 

इसरो का वर्ल्ड रिकॉर्ड, एक साथ 104 सैटेलाइट लॉन्च कर रूस को पछाड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2017, 11:02 IST
(डीडी)

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो ने एक साथ 104 सैटेलाइट लॉन्च करके विश्व रिकॉर्ड बनाया है. आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन लॉन्चिंग सेंटर से पीएसएलवी-सी37 ने सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर उड़ान भरी. इसरो ने प्रक्षेपण के 34 मिनट बाद 10 बजकर दो मिनट पर सफल लॉन्चिंग का एलान किया. पीएम मोदी ने भी इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई दी है. 

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, "पीएसएलवी- सी37 और कार्टोसैट सैटेलाइट के एक साथ 103 नैनो सैटेलाइट के सफल प्रक्षेपण पर इसरो को बधाई. यह ऐतिहासिक उपलब्धि हमारे अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के साथ ही देश के लिए गर्व का क्षण है. भारत अपने वैज्ञानिकों को सलाम करता है." 

101 नैनो सैटेलाइट का सफल प्रक्षेपण

यह पहला मौका है जब एक साथ 104 उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़े गए. इनमें भारत और अमेरिका के अलावा इजरायल, हॉलैंड, यूएई, स्विट्जरलैंड और कजाकिस्तान के छोटे आकार के सैटेलाइट शामिल हैं. भारत के तीन और 101 विदेशी सैटेलाइट का बुधवार को कामयाब प्रक्षेपण हुआ है.

इसरो ने पीएसएलवी-सी37 (कार्टोसैट-2 सीरीज) के सैटेलाइट मिशन के प्रक्षेपण के लिए उलटी गिनती मंगलवार सुबह 5:28 मिनट पर शुरू कर दी थी. पीएसएलवी-सी 37 का यह 39वां मिशन है. 

रूस ने किया था 37 सैटेलाइट का प्रक्षेपण

इससे पहले रूसी अंतरिक्ष एजेंसी की ओर से एक बार में 37 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया जा चुका है. भारत दुनिया का पहला देश है जिसने 104 उपग्रहों को एक साथ प्रक्षेपित करने में कामयाबी पाई है. भारत ने इससे पहले जून 2015 में एक बार में 23 उपग्रहों का प्रक्षेपण किया था.

पीएसएलवी ने पहले 714 किलोग्राम वजन वाले कार्टोसैट-2 सीरीज के उपग्रह की पृथ्वी पर निगरानी के लिए लॉन्चिंग की. उसके बाद 103 सहयोगी उपग्रहों को पृथ्वी से करीब 505 किलोमीटर दूर ध्रुवीय सन सिंक्रोनस कक्षा में प्रवेश कराने की प्रक्रिया शुरू हुई. 

अमेरिका के 96 सैटेलाइट

इनका अंतरिक्ष में कुल वजन 664 किलोग्राम है. मिशन में 101 नैनो सैटेलाइट भी शामिल हैं. प्रक्षेपण से 28 घंटे पहले ही उलटी गिनती शुरू हो गई थी.

मिशन के लिए इसरो के वैज्ञानिकों ने एक्सएल वैरियंट का इस्तेमाल किया है जो सबसे शक्तिशाली रॉकेट है. इस रॉकेट का इस्तेमाल चंद्रयान और मंगलयान जैसे अहम मिशन के लिए किया जा चुका है. प्रक्षेपित किए जाने वाले उपग्रहों में सबसे ज्यादा 96 सैटेलाइट अमेरिका के हैं.

First published: 15 February 2017, 11:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी